Home » राजनीति » hat is going on,I have never seen this kind of scenario in Parliament; there should be discussion: Advani
 

आडवाणी: इस्तीफ़े का मन हो रहा है, अटलजी आज यहां होते तो बहुत दुखी होते

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(फाइल फोटो)

संसद का शीतकालीन सत्र नोटबंदी की भेंट चढ़ गया. संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा में सामान्य विधायी कामकाज बुरी तरह प्रभावित हुआ है. हालात का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अब बीजेपी के पितामह पुरुष कहे जाने वाले लालकृष्ण आडवाणी भी संसद में हंगामे से खासे आहत हैं. 

तृणमूल कांग्रेस के सांसद इदरीस अली का कहना है कि आडवाणी जी ने उनसे अपना दर्द बयां किया है. इदरीस ने कहा, "लालकृष्ण आडवाणी ने मुझसे कहा कि मुझे इस्तीफा देने का मन हो रहा है. अगर आज अटल जी संसद में होते, तो उनको बहुत दुख होता."

'संसद की हार हो रही है'

टीएमसी सांसद इदरीस अली के मुताबिक आडवाणी यहीं नहीं रुके. आगे उन्होंने कहा, "कोई जीते या हारे इस सब हंगामे से संसद की हार हो रही है. स्पीकर से बात करके कल (शुक्रवार को) चर्चा होनी चाहिए." 

इदरीस अली ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, "जब मैंने उनसे उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि मेरी सेहत तो ठीक है, लेकिन संसद की सेहत सही नहीं है." 

टीएमसी सांसद के मुताबिक आडवाणी ने कहा, "जो कुछ भी चल रहा है, मैंने संसद में कभी इस तरह के हालात नहीं देखे. सदन में बहस होनी चाहिए. मुझे इस्तीफ़ा देने का मन हो रहा है." 

गौरतलब है कि इससे पहले खबर आई थी कि आडवाणी को लोकसभा में यह कहते सुना गया कि स्पीकर और संसदीय कार्यमंत्री भी संसद न चलने के लिए जिम्मेदार हैं. हालांकि इसके अगले ही दिन आडवाणी ने स्पीकर सुमित्रा महाजन को सफाई देते हुए ऐसी किसी टिप्पणी से इनकार किया था.

First published: 15 December 2016, 4:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी