Home » राजनीति » Loksabha Election 2019: Amit Shah says BJP will win 74 seats out of 80 seats in UP
 

मोदी-शाह के इस मास्टरप्लान से भाजपा 2019 लोकसभा चुनाव में जीतेगी UP की 80 में से 74 सीटें !

आदित्य साहू | Updated on: 12 August 2018, 15:28 IST

साल 2019 लोकसभा चुनाव को जीतने के लिए भारतीय जनता पार्टी जी-जान से लगी हुई है. इसके लिए लोकसभा चुनावों में सीटों के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में भाजपा संगठन एक बार फिर बड़ी जीत हासिल करना चाहती है. इसी के तहत भाजपा कार्यसमिति ने वहां पर एक मंथन कार्यक्रम का आयोजन किया है, जिसका आज दूसरा और आखिरी दिन है. इस बैठक में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी पहुंचे हैं.

शाह ने यहां पार्टी नेताओं को 2014 से एक सीट ज्यादा जीतने का संकल्प दिया है. अमित शाह ने प्रदेश कार्यसमिति के नेताओं से कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में 73 से एक सीट ज्यादा यानी 74 सीटों पर जीत दर्ज करनी है. हालांकि यह इस बार इतना आसान नहीं है क्योंकि पिछली बार सपा, बसपा और कांग्रेस ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. लेकिन इस बार इन तीनों के अलावा रालोद भी एक साथ लड़ने को तैयार हैं.

पढ़ें- कन्हैया कुमार पर बरकरार रहेगा जुर्माना, JNU में देश विरोधी नारे लगाने का है आरोप

बीजेपी के रणनीतिकारों का मानना है कि सपा-बसपा-कांग्रेस-रालोद गठबंधन को मात देने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं को किसी भी हाल में हर सीट पर 51 फीसदी वोट के लक्ष्य को ध्यान में रखकर अपनी रणनीति तैयार करनी होगी. बता दें कि यूपी में तकरीबन 46 लोकसभा सीटें ऐसी हैं जहां सपा-बसपा-कांग्रेस-रालोद के वोट जोड़ने पर बीजेपी से ज्यादा है. यही बीजेपी के यूपी मिशन 73+ के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय है.

बता दें कि पश्चिमी यूपी की सहारनपुर, बिजनौर, नगीना, मेरठ, मुजफ्फरगर, मुरादाबाद, अलीगढ़, संभल, एटा, फतेहपुर सीकरी, मथुरा ऐसी लोकसभा सीटें हैं जहां 2014 में बीजेपी को जीत मिली थी. लेकिन विपक्ष का वोट जोड़ दें तो यह बीजेपी से ज्यादा था. अगर ये दल एक साथ आ जाते हैं तो बीजेपी को नुकसान होने का खतरा है. इस हिसाब से बीजेपी की नजर 18 साल पूरा कर पहली बार मतदान करने वाले युवाओं पर टिकी है.

पढ़ें- 15 अगस्त को भारत ही नहीं इन तीन देशों को भी मिली थी गुलामी से आजादी

बीजेपी रणनीतिकारों का मानना है कि जिस तरह 2014 और 2017 में युवाओं के बल पर बीजेपी सत्ता में आई इस बार भी उनको जोड़ने में जोर लगाना होगा. इसके लिए पीएम मोदी की रैलियों पर खास ध्यान दिया जाएगा. आज भी पीएम मोदी देश के सबसे बड़े नेता माने जाते हैं. युवाओं में आज भी उनका क्रेज सबसे ज्यादा है. इसलिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पीएमम मोदी के सहारे बीजेपी की नैया को पार लगाने की कोशिश कर रहे हैं.

First published: 12 August 2018, 15:26 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी