Home » राजनीति » loksabha election opposition party can knock at Supreme court on evm
 

EVM को लेकर फिर सख्त हुआ विपक्ष, सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की कर रहा तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 February 2019, 10:40 IST

ईवीएम विपक्षी पार्टियों के लिए हमेशा से बड़ा मुद्दा रही है. आम चुनाव से पहले एक बार फिर विपक्षी पार्टियां इसको लेकर एक बड़ी जंग छेड़ने वाली हैं. जानकारी के अनुसार, सोमवार शाम को 21 विपक्षी पार्टियां EVM की खराबी को लेकर मुख्य चुनाव आयुक्त से मुलाकात करके मांग पत्र सौंपने वाले हैं.

बताया जा रहा है कि विपक्षी पार्टियों को अगर चुनाव आयोग से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला, तो वो इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे. ये फैसला शनिवार को विपक्ष की संयुक्त बैठक में लिया गया है.

इस बॉलीवुड सिंगर ने दी पीएम मोदी को नसीहत, कहा- वोट पाने के लिए ना लें रेप पीड़ितों का सहारा

बता दें कि विपक्षी पार्टियों ने मुख्य चुनाव आयुक्त को मांग पत्र सौपने के लिए एक ज्ञापन भी तैयार कर लिया है. इस ज्ञापन पर 26 नेताओं ने अपनी सहमति जता कर हस्ताक्षर किए हैं, जिसमें कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी, अहमद पटेल, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मल्लिकार्जुन खड़गे और ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल हैं. वहीं, अन्य विपक्षी दलों की ओर से एक-एक नेताओं ने हस्ताक्षर किए हैं.

क्या है मांग

इस प्रस्ताव में विपक्षी पार्टियो ने मांग की है कि कम से कम 50% ईवीएम मशीनों के साथ वीवीपैट लगाया जाए. साथ ही यदि किसी चुनाव क्षेत्र में जीत का अंतर 5% से कम है, तो उस क्षेत्र में सभी वीवीपैट की गिनती हो. यदि यहां ईवीएम और वीवीपैट के मतों में अंतर है तो वीवीपैट वोट ही मान्य हो.

First published: 3 February 2019, 10:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी