Home » राजनीति » Maneka Gandhi: Romance in almost every film starts with eve teasing
 

गोवा फेस्टिवल में बोलीं मेनका गांधी, फ़िल्मों के कारण होता है महिलाओं से अपराध

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2017, 14:36 IST

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने फिर एक बार विवादास्पद बयान दिया है..मेनका गांधी ने लड़कियों से छेड़छाड़ पर ये बयान गोवा फ़िल्म फेस्टिवल के दौरान दिया. 

मेनका गांधी ने कहा, "फ़िल्मों में अक्सर रोमांस लड़कियों से छेड़छाड़ से शुरू होता है. अगर आप देखेंगे तो ये सिलसिला पिछले 50 साल से चला आ रहा है. छेड़छाड़ की ये प्रवृति ना सिर्फ बॉलीवुड में बल्कि भारत की अन्य क्षेत्रीय फिल्मों में भी देखने को मिलती है."

मेनका गांधी ने कहा, "आपने देखा होगा भारत में बननी वाली लगभग हर फिल्म में एक व्यक्ति और उसके दोस्त एक महिला को घेर लेते हैं. फिर वो उसके आगे-पीछे चलते हैं,उसको नीचा दिखाते हैं और उसे गलत तरीके से छूते हैं. और कुछ समय बाद वो लड़की उस लड़के के प्यार में पड़ जाती है."

उन्होंने कहा कि इन सारी चीजों को करने के लिए पुरुष फिल्में देखकर प्रेरणा लेते हैं.इतना नहीं केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने फिल्म और विज्ञापन बनाने वालों से अपील की है कि वो महिलाओं की बेहतर छवि पेश करें. मेनका गांधी के इस बयान पर सोशल मीडिया पर काफी संख्या में लोगों के रिएक्शन आ रहे हैं.

मेनका गांधी अपने बयानों को लेकर पहले भी चर्चा में रही हैं. अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस से पहले उनके एक बयान पर काफी बवाल भी मचा था. एक निजी चैनल के एक कार्यक्रम में मेनका गांधी ने कहा था कि लड़कियों और लड़कों के लिए एक तरह की ‘लक्ष्मण रेखा’लगाई जानी चाहिए, जिससे वे काबू से बाहर ना हों.

उन्होंने कहा कि हॉस्टल में रहने वाले लड़के-लड़कियों के ज्यादा देर तक रात को घर से बाहर निकलने पर पहरा होना चाहिए जिससे वह भटके नहीं. मेनका ने कहा था, "अभिवावक जो कि अपनी बेटी या फिर बेटे को कॉलेज भेज रहे हैं वे चाहते हैं कि उनका बेटा या बेटी सुरक्षित रहे. अगर आप 16-17 साल के हैं तो आपके हार्मोन्स बेहद चंचल होते हैं."

First published: 8 April 2017, 14:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी