Home » राजनीति » Mani Shankar Aiyar says the first proponent of the two nation theory was the ideological guru of modi government in india
 

पाकिस्तान: मणिशंकर अय्यर ने भारत के मौजूदा हालात पर दिया बवाल खड़ा करने वाला बयान

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 May 2018, 22:29 IST

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस से निष्कासित नेता मणिशंकर अय्यर ने एक बार फिर से विवादित बयान को लेकर सुर्खियों में आ गए हैं. मणिशंकर अय्यर ने कहा है कि भारत के मौजूदा हालात सही नहीं है.

उन्होंने कहा कि वीडी सावरकर ने साल 1923 में हिन्दुत्व नाम के शब्द की खोज की थी. इस शब्द का किसी धार्मिक किताब में जिक्र नहीं है. सावरकर ने ही सबसे पहले टू नेशन थ्योरी को जन्म दिया. आज  ऐसे लोग भारत में सत्ता पर काबिज हैं जो सावरकर को अपना गुरु मानते हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, लाहौर में एक कार्यक्रम में शामिल होने गए मणिशंकर अय्यर ने कहा कि साल 2014 में 70 लोगों ने मोदी को वोट नहीं दिया था. उम्मीद है कि ये 70 फीसदी लोग ही साल 2019 में मोदी का अंत करेंगे. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार बनने के पीछे 70 फीसदी जनता में एकता नहीं होना रहा था.

मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना को कायदे आजम कहने वाले बयान को लेकर कहा कि मेरे इस बयान को लेकर भारतीय मीडिया ने मेरी जमकर आलोचना की. कुछ चैनल पूछ रहे हैं कि मैं पाकिस्तान के संस्थापक को कायदे आजम कैसे कह सकता हूं.

मैं उन लोगों को बताना चाहता हूं कि मैं कई पाकिस्तानी लोगों को जानता हूं जो महात्मा गांधी को महात्मा गांधी कहते हैं तो क्या वो पाकिस्तान के लिए वफादार नहीं रहे.

गौरतलब है कि मणिशंकर अय्यर विवादित बयानों को लेकर कई बार सुर्खियों में रह चुके हैं. गुजरात चुनाव के दौरान पीएम मोदी पर दिया था. जिसके बाद कांग्रेस ने उनको पार्टी से निष्कासित कर दिया.

दो महीने पहले भी पाकिस्तान जाकर मणिशंकर अय्यर ने विवादित बयान दिया था. उन्होंने भारत पर बातचीत की नीति नहीं अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा था कि पाकिस्तान बातचीत की नीति अपना रहा है और इस पर मुझे गर्व है.  

First published: 7 May 2018, 21:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी