Home » राजनीति » Mayawati bsp supremo attacked pm modi and the Congress on her birthday,Har har Modi, ghar ghar modi' wale Narendra Modi ji is baar Gujarat m
 

बर्थडे पर बोलीं मायावती, 'हर-हर मोदी वाले अपने ही घर गुजरात से बेघर होते होते बचे'

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 January 2018, 14:10 IST

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती सोमवार को अपना 62 वां जन्मदिन मना रही हैं. यूपी की चार बार सीएम रह चुकीं मायावती ने जन्मदिन के मौके पर लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. उन्होंने अपने जन्मदिन के दिन केंद्र और यूपी में शासित भाजपा और देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. 

मायावती ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा, "हर हर मोदी, घर घर मोदी वाले नरेंद्र मोदी इस बार गुजरात में बेघर होते होते बचे." उन्होंने कहा कि गुजरात में अगर दलितों का 18 से 20 फीसदी वोट होता तो फिर वो बाल बाल नहीं बच पाते.

गौरतलब है कि गुजरात में भाजपा ने बहुमत से सरकार तो बना ली है पर उसको सीटों का अच्छा खासा नुकसान हुआ. साल 2017 के आखिर में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को 99 सीटें हासिल हुई जबकि 2012 में उसकी 115 सीटें थी. जबकि भाजपा ने इस विधानसभा चुनाव 150 प्लस का लक्ष्य रखा था.

मायावती ने  केंद्र में शासित भाजपा सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा देश का संविधान और कानून बदलना चाहती है. मायावती ने इसके साथ ही कांग्रेस पर बड़ा निशाना साधा. उन्होंने कहा, "कांग्रेस पार्टी से ये जानना चाहती हूं कि बाबा साहेब को भारत रत्न से सम्मानित क्यों नहीं किया था. इसके अलावा मंडल आयोग की शिफारिशों को लागू क्यों नहीं किया गया?"

मायावती ने कहा, " आजादी के बाद से कांग्रेस और अब भाजपा ने हर वर्ग को नुकसान पहुंचाया है. आज हर राज्य में हर सांप्रदायक और जातिवादी माहौल बनाया जा रहा है."

मायावती ने सोमवार को राज्यसभा में अपने इस्तीफे पर बोलते हुए कहा, "मुझे राज्यसभा में बोलने नही दिया गया, जिस वजह से मैंने इस्तीफा दिया. इसी तरह सन 1951 में बाबा साहब अंबेडकर को भी परेशान किया गया था, जिसके चलते उन्होंने कानून मंत्री पद से इस्तीफा दिया था."

मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी दलित और ओबीसी के लिए मे संघर्ष करती रही है और आगे भी करती रहेगी. 2014 के लोकसभा चुनाव में EVM पर बड़ा घोटाला करके हमारी पार्टी को राजनीतिक नुकसान पहुचाया गया है.

गौरतलब है कि सत्ता में रहते हुए मायावती का जन्मदिन धूमधाम से मनाया जाता था. लेकिन सत्ता से बाहर रहते हुए उनका जन्मदिन कल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया जाता है.

First published: 15 January 2018, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी