Home » राजनीति » Minister Ramdas Athawale government should not ban slaughter of other cattle animals other than cow
 

पशुओं की ब्रिकी पर बैन के विरोध में उतरे मोदी के मंत्री

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 June 2017, 11:42 IST

मोदी सरकार के द्वारा लगाये गये पशुओं की ब्रिकी पर बैन के विरोध में अब उन्हीं के मत्री उतर आये हैं. एनडीए की सहयोगी दल रिपब्लिकन पार्टी इंडिया (आरपीआई) के अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले का कहना है कि मवेशियों पर पूरी तरह से बैन लगाना कहीं से भी सही नहीं हैं.

उन्होंने कहा, “गोहत्या पर प्रतिबंध लगना चाहिए पर मवेशियों पर पूरी तरह बैन लगाना सही नहीं है.” केंद्र सरकार ने नोटिफिकेशन जारी करके पशु मेलों में मवेशियों को वध के लिए बेचने पर रोक लगा दी थी. जिसके बाद से देशभर में इस प्रतिबंध के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं.

इसके अलावा केरल और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों द्वारा भी आपत्ति जताई गई है. विरोधी दलों ने सरकार के इस फैसले की कड़ी निंदा करते हुए इसेे असंवैधानिक करार दिया है.

मंत्री रामदास अठावले से पहले मेघालय के भाजपा नेताओं की ओर से भी मोदी सरकार को चेतावनी दी गई थी. भाजपा नेताओं ने कहा था कि यदि पशुओं की खरीद-फरोख्त पर नए नियम वापस नहीं लिए गए तो वे पार्टी से इस्तीफा दे देंगे.

इस मामले में भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जॉन एंटोनियस लिंगदोह ने कहा, “मेघालय में पार्टी के अधिकतर नेता नए नियम से खुश नहीं है, क्योंकि यह लोगों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति को प्रभावित करेगा.”

पूर्व खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री लिंगदोह ने कहा, “हम पशुओं की खरीद-फरोख्त और उनके वध को लेकर जारी किए गए नए आदेश को स्वीकार नहीं कर सकते. हम अपनी खाने-पीने की आदतों के खिलाफ नहीं जा सकते और न ही पशु खरीद-फरोख्त और पशु वध के कारोबार से जुड़े लोगों के आर्थिक हितों को अधर में डाल सकते है.”

गौरतलब है कि इससे पहले केरल में पशु ब्रिकी बैन को लेकर विरोध प्रकट करते हुए यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर कथित तौर पर गोवंश काटने का मामला सामने आया था.

मामले की गंभीरता को देखते हुए कांग्रेस ने आनन-फानन में तीन कार्यकर्ताओं को निलंबित कर दिया था. वहीं केरल पुलिस ने भी इस मामले में जांत कर रही है.

वहीं फैसले के विरोध में आईआईटी मद्रास में स्टूडेंट्स ने ‘बीफ फेस्ट’ का आयोजन किया था. जिसके बाद कुछ कथित गोरक्षक समर्थक छात्रों ने एक छात्र की पिटाई कर दी थी. इस समय पूरे देश में यह मामला गरमाया हुआ है.

First published: 1 June 2017, 11:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी