Home » राजनीति » Modi government to win 2019 general elections going to fix onion and tomato problems
 

कहीं प्याज रुला न दे इसलिए मोदी सरकार ने 2019 चुनाव के लिए बनाया ये प्लान

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 June 2018, 12:09 IST

आम जन के उपभोग में आने वाली चीजों के बढ़ते दाम हमेशा से राजनीतिक बदलाव के लिए जिम्मेदार भी रहे हैं. ऐसे में मोदी सरकार 2019 में होने वाले चुनाव से पहले इससे निपटने की तैयारी में जुटी गई है. सरकार अपनी तरफ से हरसंभव प्रयास कर रही है कि चुनाव के पहले कुछ गड़बड़ न हो, जिसका खामियाजा चुनाव हारकर चुकाना पड़े.

सरकार ने ऑपरेशन ग्रीन के तहत 500 करोड़ रुपये का आवंटन किया है. ऑपरेशन ग्रीन के तहत सरकार की ये कोशिश है कि कीमतों में हो रहे तेज उतार-चढ़ाव के कारण सब्जियों जैसे- आलू, टमाटर और प्याज की सप्लाई पर कोई असर न पड़े.

एक अंतर-मंत्रालयी समूह की हुई बैठक में यह बात निकलकर सामने आई है कि आलू और प्याज की कीमतों में उतार-चढ़ाव की वजह उत्पादन नहीं बल्कि स्टोरेज है. मीटिंग में यह बात भी सामने आई है कि आलू की कम समस्या है. क्योंकि इसे कोल्ड स्टोरेज में 8 घंटे तक रखा जा सकता है.

वहीं प्याज सरकार के लिए बडी़ एक समस्या है. इसकी वजह, बड़े पैमाने पर इसकी पैदावार पश्चिमी भारत में ही होती है. इसके अलावा इसको स्टोर करने की समस्या. क्योंकि प्याज को वेंटिलेटिड स्टोरेज में 4 से 6 महीने के लिए रखा जा सकता है, लेकिन स्टोरेज की यह व्यवस्था देश में पर्याप्त रूप से मौजूद नहीं है. ऐसे में अकसर देखा जाता है कि गर्मी का मौसम शुरू होते ही प्याज की किल्लत शुरु हो जाती है और फिर जल्दी ही शहरी मार्केट में खासी कमी दिखाई देती है.

ये भी पढ़ें-नीति आयोग के सुझाव पर मोदी सरकार दे सकती इलाज में बड़ी छूट, जानिए क्या है मामला

इसलिए सरकार ने प्याज रखने के लिए वेंटिलेटिड स्टोरेज फैसिलिटी तैयार करने के लिए बड़ा बजट तैयार करने की तैयारी है. कैबिनेट की ओर से जल्दी ही ऐसी योजना को मंजूरी दी जा सकती है. इसके पहले चरण में सबसे पहले मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और बिहार जैसा राज्यों में यह सुविधा विकसित की जाएगी.

First published: 16 June 2018, 12:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी