Home » राजनीति » Mulayam Singh hits Akhilesh Yadav: Modi rightly said Akhilesh insulted me for 5 years
 

मुलायम सिंह: हां मोदी के इसी बयान से हम हार गए यूपी चुनाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2017, 17:34 IST
(फाइल फोटो)

यूपी चुनाव में करारी हार की टीस रह-रहकर मुलायम सिंह यादव के लफ्जों में उभर आती है. मैनपुरी में मुलायम सिंह ने अपने बेटे और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव पर एक बार फिर हमला बोला है. 

सपा के संरक्षक ने मैनपुरी में पैक्सफेड चेयरमैन तोताराम यादव के होटल के शुभारंभ के मौके पर बोलते हुए अखिलेश को निशाने पर लिया. मुलायम ने कहा कि कन्नौज की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो कहा उसका यूपी के विधानसभा चुनाव में बड़ा असर हुआ.  

पीएम मोदी ने कन्नौज में कहा था कि जो बेटा अपने बाप का नहीं हो सकता है, वह आपका (यूपी वालों का) क्या होगा? मुलायम ने कहा, "यह बात सही है. जो अपने बाप का नहीं हो सकता वो किसी का नहीं हो सकता. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कन्नौज की जनसभा में कहा कि जो बाप का नहीं हुआ वह किसी और का क्या होगा. इसका जनता पर असर हुआ और हम चुनाव हार गए." 

'मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा अपमान'

मुलायम यहीं नहीं रुके. आगे उन्होंने कहा, "कोई बाप अपने बेटे को मुख्यमंत्री नहीं बनाता, लेकिन मैंने अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाया. इसके बाद भी मुझे बड़ा अपमान सहना पड़ा है. मेरी जिंदगी ये मेरा सबसे बड़ा अपमान था. अखिलेश ने अपने ही चाचा को मंत्री पद से हटा दिया." 

'अखिलेश के पास बुद्धि है वोट नहीं'

मुलायम ने साथ ही कहा, "अखिलेश के पास बुद्धि है पर वोट नहीं. अखिलेश ने कांग्रेस से गठबंधन किया, जिसने मुझ पर तीन बार जानलेवा हमला करवाया. मैं अब अखिलेश के भरोसे नहीं जनता के भरोसे पर रहूंगा. जितना मेरा अपमान अब हुआ, पहले कभी नहीं हुआ. अपनों ने ऐसा किया तो कहने किससे जाते. दो लोगों ने मेरा अपमान किया. वो कौन हैं ये सब जानते हैं."

पूरे भाषण के दौरान मुलायम सिंह ने चार बार अपमान की बात का जिक्र किया. मुलायम ने अपने छोटे भाई की तारीफ करते हुए कहा, "शिवपाल इतना अच्छा काम करते थे. अखिलेश ने उन्हें मंत्रिमंडल से निकाल दिया." गौरतलब है कि यूपी विधानसभा चुनाव में सपा और कांग्रेस ने गठबंधन करके चुनाव लड़ा था. सपा बनने के 25 साल में इतनी करारी हार पार्टी की कभी नहीं हुई. 

सपा ने 298 और कांग्रेस ने 105 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन गठबंधन को महज 54 सीटें ही मिल सकीं. अकेले सपा ने 47 सीटें जीती हैं, जबकि कांग्रेस को केवल 7 सीटों से संतोष करना पड़ा. पिछले विधानसभा चुनाव में सपा ने पूर्ण बहुमत हासिल करते हुए 224 सीटों पर शानदार जीत हासिल की थी.

First published: 1 April 2017, 17:27 IST
 
अगली कहानी