Home » राजनीति » Mulayam Singh Yadav says Akhilesh Yadav & his decisions are responsible for this defeat, joining hands with Congress was wrong
 

करारी शिकस्त के बाद कड़क हुए मुलायम, अखिलेश पर फोड़ा हार का ठीकरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 March 2017, 16:30 IST

उत्तर प्रदेश चुनाव में समाजवादी पार्टी को मिली करारी शिकस्त के बाद पार्टी संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने कड़क रुख अपनाते हुए अपनी चुप्पी तोड़ी. मुलायम ने इस हार का ठीकरा पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर फोड़ते हुए उन्हें जिम्मेदार ठहराया और कहा कि कांग्रेस से गठबंधन का फैसला गलत था.

लखनऊ स्थित आवास में मीडिया से बातचीत के दौरान मुलायम सिंह ने कहा कि अगर कांग्रेस से समाजवादी पार्टी का गठबंधन नहीं होता तो प्रदेश में हमारी पार्टी ही विजयी होती.

मुलायम सिंह बोले कि जो भी इस गठबंधन को सही बता रहा था वह हकीकत में झूठ बोल रहा था. कांग्रेस को प्रदेश में कोई पसंद नहीं करता है, न ही इस गठबंधन की कोई जरूरत थी.

उन्होंने आगे कहा कि साल 2012 विधानसभा चुनाव में सपा अपने दम पर पूर्ण बहुमत से आई थी. गौरतलब है कि सपा अध्यक्ष बनते ही अखिलेश यादव ने कई फैसले लिए जिनमें कांग्रेस के साथ गठबंधन के फैसले की काफी आलोचना हुई थी.

 

पार्टी संरक्षक मुलायम ने पहले भी मीडिया के सामने यह बात कही थी कि पार्टी अकेले ही चुनाव जीत सकती है, इसे किसी के गठबंधन की जरूरत नहीं. वहीं, मतदान खत्म होने के बाद अखिलेश ने मायावती के साथ भी गठबंधन करने की संभावना जाहिर की थी.

बीते कुछ माह में समाजवादी पार्टी और परिवार में चल रही अंतरकलह के लिए भी मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को ही जिम्मेदार ठहराया. मुलायम ने इस शिकस्त की सबसे बड़ी वजह परिवारिक कलह को बताते हुए कहा कि इस घमासान के बाद लोगों ने सपा को वोट इसलिए नहीं किया क्‍योंकि इस दौरान उनका अपमान किया गया था.

पार्टी में हुई जंग के बाद यही संदेश सपा कार्यकर्ताओं व जनता में पहुंचा था. उन्‍होंने आगे कहा कि यह भाजपा के लिए बहुत बड़ी जीत है, लिहाजा आज उनका दिन है.

अपनी दूसरी पत्नी साधना गुप्ता के मीडिया को दिए गए बयान जिसमें पारिवारिक कलह, अखिलेश के गलत फैसले व नेताजी के अपमान की बात कही गई थी पर भी मुलायम सिंह यादव ने प्रतिक्रिया दी. उनका कहना है कि साधना ने मीडिया में सामने आ कर कुछ भी गलत नहीं कहा.

साधना ने बेहद सादगी से यही कहा था कि इस दौरान उनका अपमान किया गया. साधना ने किसी के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया था. साधना ने सिर्फ इतना कहा कि उनका अपमान नहीं किया जाना चाहिए था.

वर्ष 2012 चुनाव में किए गए कैंपेन को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उस दौरान उन्‍होंने करीब 300 रैलियां की थीं, लेकिन इस बार उन्‍होंने केवल चार ही रैलियां की वह भी बेमन से. सपा की हार के बाद मुलायम ने अखिलेश से बातचीत पर कहा की अब वह क्‍या बोलेगा. अखिलेश को सलाह देते हुए कहा कि हार के बाद भी उन्‍हें जनता के बीच जाकर जनता को बधाई और धन्‍यवाद देना चाहिए.

First published: 12 March 2017, 16:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी