Home » राजनीति » NDA big blow before 2019, IPFT To Go Solo In 2019 Lok Sabha Election
 

2019 से पहले NDA को बड़ा झटका, एक और अहम सहयोगी ने छोड़ा साथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2018, 10:51 IST

आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले एनडीए को एक और बड़ा झटका लगा है. त्रिपुरा की इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) ने बीजेपी से अलग चुनाव लड़ने का फैसला किया है. टीडीपी और शिवसेना के बाद बीजेपी के लिए यह बड़ा झटका है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आईपीएफटी का कहना है कि बीजेपी के दो त्रिपुरा लोकसभा सीटों के लिए नेताओं के एकतरफा नाम तय करने के बाद उसे ‘ मजबूरन’ यह फैसला लेना पड़ा है. गौरतलब है कि त्रिपुरा में माणिक सरकार की 25 साल की सत्ता को उखाड़नी में आईपीएफटी का अहम योगदान रहा.

 

गौरतलब है कि हालही में त्रिपुरा में दो पत्रकारों की हत्या के मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने इंडीजीनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) पार्टी के तीन नेताओं और पार्टी के करीब 300-500 कार्यकर्ताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी.

त्रिपुरा में पत्रकार शांतनु भौमिक की पिछले साल 21 सितंबर को उस समय हत्या कर दी गई थी जब वह पश्चिमी त्रिपुरा जिले के मंडवई इलाके में सड़क नाकाबंदी आंदोलन की रिपोर्टिंग करने गए थे.

हालांकि बीजेपी का कहना है कि उसका आईपीएफटी के साथ उसका गठबंधन सिर्फ इस विधानसभा चुनाव तक था. आईपीएफटी और बीजेपी ने इस वर्ष जनवरी में पहली बार एक साथ मिलकर चुनाव पूर्व गठबंधन किया था. इससे पहले एनडीए की सबसे पुरानी सहयोगी शिवसेना ने भी अकेले लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया था हालांकि वह अभी एनडीए के साथ है.

ये भी पढ़ें : रद्द हो सकते हैं DDCA चुनाव के परिणाम, रजत शर्मा ने दर्ज की थी जीत

First published: 4 July 2018, 10:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी