Home » राजनीति » Nitish Kumar on seat sharing with BJP in Bihar for 2019 Loksabha Election says honourable agreement done
 

नीतीश कुमार और BJP में सीट बंटवारे को लेकर हो गई बात, इस पार्टी को मिलेंगी इतनी सीटें

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2018, 18:12 IST

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी से सीट बंटवारे को लेकर बड़ी बात कही है. नीतीश ने कहा है कि बीजेपी से सम्मानजनक सीट को लेकर बात फाइनल हो गई है. उन्होंने कहा कि जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी. 

पटना में एक कार्यक्रम में नीतीश कुमार ने कहा कि बीजेपी के साथ चुनावों के लिए सीट बंटवारे पर बात हो चुकी है. उन्होंने कहा कि हमें सम्मानजनक सीटें मिलेंगी और इस पर जल्द घोषणा होगी. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि किस पार्टी को कितनी सीटें मिलेंगी. 

 

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले खबर आई थी कि बीजेपी बिहार में 40 सीटों में से 20 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है. तब जेडीयू को 12 सीटें मिलनी की बात कही जा रही थी. वहीं रामविलास पासवान की पार्टी को छह सीटें और उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी को 2 सीटें मिलनी की बात कही जा रही थी. लेकिन उस समय जेडीयू सीट बंटवारे के इस ड्राफ्ट पर तैयार नहीं थी. जेडीयू ने कहा था कि यह सम्मानजनक नहीं है.

पढ़ें- मायावती ने महागठबंधन को दिया बड़ा झटका, कहा- सम्मानजनक सीटें न मिलीं तो अकेले लड़ेंगे चुनाव

तब एक जेडीयू नेता ने कहा था कि बीजेपी भी जानती है कि ये समझौता सही नहीं है और दोनों पार्टियों के बीच सीटों का समान बंटवारा होना चाहिेए. उन्होंने कहा था कि दोनो पार्टियों को 17-17 सीटें मिलनी चाहिए और रामविलास पासवान की पार्टी को बची छह सीटें मिलनी चाहिए. 

 

बता दें कि साल 2014 के चुनावों में बीजेपी ने 22 सीटों पर जीत हासिल की थी और एनडीए के पास कुल 31 सीटें आई थीं. तब जेडीयू एनडीए के साथ नहीं थी और उसे सिर्फ दो सीटों पर जीत हासिल हुई थी. खुद पार्टी के बड़े नेता शरद यादव चुनाव हार गए थे. हालांकि अब परिस्थितियां अलग है.

पढ़ें- बाबा रामदेव का बड़ा बयान, बोले- 2019 लोकसभा चुनाव में नहीं करूंगा मोदी सरकार का प्रचार

शरद यादव अब नीतीश कुमार वाली जेडीयू पार्टी में नहीं हैं. उन्होंने नीतीश कुमार के महागठबंधन छोड़ने के निर्णय के साथ ही पार्टी छोड़ दी थी. वहीं बीजेपी के लिए भी अब परिस्थितियां अलग हैं. तब पूरे देश में पीएम मोदी की जितनी लहर थी अब उसमें थोड़ी कमी आई है. 

First published: 16 September 2018, 18:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी