Home » राजनीति » non bailable warrants issued against baba ramdev by rohtak court in haryana.
 

सिर कलम करने वाले बयान पर बाबा रामदेव के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट जारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 June 2017, 16:39 IST

हरियाणा की एक अदालत ने बुधवार को योग गुरु बाबा रामदेव के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. ये गैर जमानती वारंट भड़काऊ भाषण देने के कारण रामदेव को मिला है. रोहतक कोर्ट के जज हरीश गोयल ने रोहतक के पुलिस अधीक्षक को रामदेव को गिरफ्तार कर अगली तारीख पर कोर्ट में पेश करने के आदेश दिए हैं. कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए तीन अगस्त की तारीख मुकर्रर कर दी.

क्या है मामला?

रोहतक में 3 अप्रैल 2016 को हुए सद्भावना सम्मेलन में योग गुरु बाबा रामदेव ने विवादित भाषण दिया था. रामदेव ने बगैर नाम लिए हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा था. रामदेव ने कहा था, "आज कल कुछ लोग टोपी पहन कर ये कहते हैं कि चाहे सिर धड़ से अलग हो जाए वे भारत माता की जय नहीं बोलेंगे, लेकिन शायद उन्हें ये पता नहीं कि देश के कानून का सम्मान करते हैं, नहीं तो अगर कोई भारत माता का अपमान करे तो लाखों सिर धड़ से अलग कर सकते हैं."

वारंट जारी होने के बाद रामदेव नहीं हुए पेश

इस मामले में शिकायतकर्ता के वकील ओपी चुग ने बताया कि इससे पहले 12 मई को रोहतक की कोर्ट ने बाबा रामदेव के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया था. कोर्ट के समन और जमानती वारंट जारी होने के बावजूद रामदेव अदालत में हाजिर नहीं हुए. इसके बाद उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है.

यह सम्मेलन हरियाणा में जाट आंदोलन के बाद सद्भावना बहाल करने के लिए आयोजित किया गया था. मामले में हरियाणा के पूर्व मंत्री और कांग्रेस नेता सुभाष बत्रा की शिकायत के बाद अदालत ने रामदेव को समन जारी किया था. बत्रा ने मामले में रामदेव के खिलाफ FIR दर्ज करने की मांग की है.

First published: 15 June 2017, 16:39 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी