Home » राजनीति » Note Ban: Shiv Sena told Modi govt taking seriously manmohan singh speech
 

नोटबंदी: मनमोहन के भाषण पर शिवसेना ने पीएम मोदी को घेरा

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(एजेंसी)

संसद में नोटबंदी के खिलाफ विपक्ष के आरोपों का सामना कर रही मोदी सरकार को फिर उसी के सहयोगी शिवसेना ने घेर लिया है.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, "मोदी सरकार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बातों को गंभीरता से लेना चाहिए."

नोटबंदी के मामले में उद्धव ठाकरे और उनकी पार्टी शिवसेना कभी मोदी सरकार का विरोध करती है तो कभी समर्थन भी.

शिवसेना नोटबंदी के खिलाफ बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के साथ विरोध मार्च में भी शामिल हुई थी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बात करने के बाद उद्धव ठाकरे ने नोट बैन का समर्थन भी किया था.

शिवसेना तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के उमर अब्दुल्ला और आम आदमी पार्टी के साथ इस मुद्दे पर कड़ा एतराज जता चुकी है.

दूसरी ओर शिवसेना सहित एनडीए के सभी घटक दलों ने मोदी सरकार के नोटबंदी के पक्ष में प्रस्ताव पारित किया था.

ठाकरे ने कहा कि क्या काले धन के खिलाफ एक्शन लेने पर क्या कोई काली सोच है? लोगों को फैसले से काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है.

उद्धव ने कहा कि ब्रिटेन में ब्रेक्जिट करने से पहले जनमत संग्रह किया था कि क्या मोदी भी ब्रिटेन के पीएम की तरह यह कदम उठाएंगे?

उद्धव ने कहा, "जिन लोगों ने आपको चुना आपने उन्हीं की आंखों में आंसू ला दिए, जबकि आपकी जिम्मेदारी आंसू पोंछने की थी."

उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह ने संसद में जो कुछ भी कहा है उस पर विचार करना चाहिए, वह एक बहुत बड़े अर्थशास्त्री हैं, आप हमें या कैबिनेट को विश्वास में ना लीजिए लेकिन देश की जनता को जरूर विश्वास में लीजिए.

First published: 25 November 2016, 10:23 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी