Home » राजनीति » TMC,Congress,DMK,JDU,RLD leaders arrive to meet Election Commission on issue of budget date being too close to polls
 

चुनाव से पहले बजट पर रार: विपक्ष ने चुनाव आयोग से जताई आपत्ति

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 January 2017, 11:22 IST

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का एलान हो गया है. वहीं विपक्ष ने चुनाव से पहले एक फरवरी को बजट पेश किए जाने पर चुनाव आयोग से एतराज जताया है. संसद के बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से शुरू हो रहा है. 

पांच राज्योें में चुनाव कार्यक्रम की बुधवार को घोषणा की गई. पंजाब और गोवा में 4 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे. वहीं उत्तराखंड में 15 फरवरी जबकि यूपी में 11 फरवरी से 8 मार्च के बीच सात चरणों में मतदान होना है. 

तकरीबन सभी प्रमुख विपक्षी पार्टियों के नेता गुरुवार को सुबह 11 बजे चुनाव आयोग के अधिकारियों से अपनी आपत्ति जताने पहुंचे. इनमें कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल के अलावा टीएमसी, डीएमके, जेडीयू और आरएलडी के नेता शामिल हैं.

मतदाता प्रभावित होने की आशंका

विपक्ष का मानना है कि एक फरवरी को बजट प्रस्तावों के एलान से इन राज्यों में मतदाता प्रभावित हो सकता है, लिहाजा बजट की प्रस्तावित तारीख को आगे बढ़ाया जाए. 

कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बसपा, जनता दल यूनाइटेड और लालू यादव की पार्टी आरजेडी ने बजट के बाद चुनाव की तारीखों पर आपत्ति जताई है. खास बात यह है कि भाजपा की सहयोगी शिवसेना भी इसके खिलाफ है. 

'बजट का होगा दुरुपयोग'

तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन ने चुनाव आयोग से मुलाकात के बारे में ट्वीट किया, "विषय : बजट की तारीख मतदान के काफी करीब है." 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने कहा, "यह साफ है कि केंद्र सरकार बजट पेश करने का दुरुपयोग करेगी. चुनाव से ठीक पहले सरकार घोषणाओं के जरिए मतदाताओं को प्रलोभन देने की कोशिश करेगी."

महाराष्ट्र और केंद्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी बजट को टालने की मांग की है. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, "चुनाव नजदीक हैं इसलिए बजट को स्थगित किया जाना चाहिए. शासन करने वाली पार्टी पर जनता के तुष्टीकरण का आरोप लग सकता है."

पांच राज्यों मेंं मतदान के नतीजे 11 मार्च को घोषित किए जाएंगे. विपक्ष की मांग है कि बजट को रिजल्ट के बाद पेश करना चाहिए. 

मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम ज़ैदी ने बुधवार को ही पुष्टि की है कि सरकार से कहा गया है कि चुनाव से पहले वह बजट साझा न करे. 2012 में भी इन राज्यों में चुनाव के वक्त बजट, मार्च के बीच में वोटिंग प्रक्रिया पूरा होने के बाद साझा किया गया था.

First published: 5 January 2017, 11:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी