Home » राजनीति » Left will give call of protest when PM's new announcements come, depending on what they are: Yechury
 

नोटबंदी: राहुल की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले विपक्ष में दरार, लेफ्ट ने खींचे हाथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:44 IST
(एएनआई)

नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष की एकजुटता में दरार दिख रही है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को नोटबंदी पर विपक्ष की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस का एलान किया था, लेकिन बैठक से 24 घंटे पहले ही लेफ्ट ने इससे दूर रहने की घोषणा की है. 

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, "हम कल की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल नहीं होंगे. सभी 16 विपक्षी पार्टियां वहां नहीं होंगी. अगर पश्चिम बंगाल की सीएम वहां होंगी, तो असम, त्रिपुरा और दूसरे राज्यों को लेकर क्यों नहीं तैयारी की गई? राष्ट्रीय जनता दल और एनसीपी का भी यही सोचना है." 

साथ ही येचुरी ने कहा, "लेफ्ट विरोध बंद कर देगा अगर प्रधानमंत्री की नई घोषणाओं में जनता को राहत मिलती है. इस बारे में विपक्षी पार्टियों से भी राय ली जाएगी." 

जेडीयू, ,सपा, एनसीपी भी दूर!

जेडीयू के भी इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल होने की संभावना न के बराबर है. पार्टी के प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा, "इसका साझा एजेंडा होना चाहिए. हमें वहां जाने या न जाने के बारे में अभी फैसला लेना है." नीतीश कुमार पहले ही नोटबंदी के फैसले का समर्थन कर चुके हैं. 

इसके अलावा समाजवादी पार्टी और एनसीपी का रुख भी अब तक साफ नहीं हो पाया है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है, "कांग्रेस ने बैठक की गुजारिश की है. अगर मैं मीटिंग में शामिल होती हूं, तो पहले जानकारी दे दी जाएगी."

इससे पहले नोटबंदी के मुद्दे पर संसद के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन विपक्ष में दरार सामने आई थी. दरअसल कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों के कर्ज के मुद्दे पर पार्टी नेताओं के साथ पीएम मोदी से मुलाकात की थी, जिस पर बसपा ने नाराजगी जताई थी. ऐसे में बसपा के भी इस बैठक में शामिल होने के आसार कम ही दिख रहे हैं.

First published: 26 December 2016, 3:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी