Home » राजनीति » Pappu Yadav: Nitish kumar order to investigate Lalu Yadav undeclared assets
 

पप्पू यादव: नीतीश कुमार दें लालू यादव की अघोषित संपत्ति की जांच का आदेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(फाइल फोटो)

बिहार में जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और मधेपुरा से सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मांग की है कि वो राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की बेनामी संपत्ति की जांच कराने का आदेश दें.

पप्पू यादव ने कहा कि यदि नीतीश कुमार सही मायने में बेनामी संपत्ति को बाहर लाना चाहते हैं तो सबसे पहले आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिवार सहित अपने पार्टी के सभी विधायकों और सांसदों की संपत्ति की जांच कराएं.

पप्पू यादव ने पटना में कहा कि नोटबंदी के बाद बेनामी संपत्ति पर नीतीश के पहल के संदर्भ में कहा कि वे सबसे पहले इसकी शुरुआत आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिवार के अन्य सदस्यों और अपने विधायक और सांसद के साथ-साथ अपने अधिकारियों की संपत्ति की जांच करें.

उन्होंने कहा कि अगर नीतीश कुमार ऐसा नहीं कर सकते तो बेनामी संपति के नाम पर उनकी बातें लोगों की आंख में धूल झोंकने बराबर होगा.

पप्पू ने मुख्यमंत्री से नोटबंदी के ठीक पहले बीजेपी द्वारा विभिन्न जिलों में अपना कार्यालय खोले जाने के लिए खरीदी गई जमीन की भी जांच काराए जाने की मांग की.

इसके साथ ही उन्होंने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से तमाम राजनीति पार्टी को आरटीआई के दायरे में लाने के लिए कानून बनाने और राजनीतिक दलों के खातों की निगरानी की भी मांग की.

पप्पू ने केंद्र सरकार पर कालेधन के खिलाफ 500 और 1000 रुपये पर रोक लगाकर आम जनता की परेशानी बढ़ा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार को नोटबंदी को लेकर उच्चतम न्यायालय द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब देना चाहिए.

उन्होंने आरोप लगाया कि नोटबंदी के कारण उद्योग और व्यवसाय ठप पड़ गया और एक बड़ी आबादी बेरोजगार हो गई है. पप्पू ने मोदी सरकार के नोटबंदी को गलत फैसला बताते हुए कहा कि देश के कई अर्थशास्त्री ने नोटबंदी को अव्यावहारिक करार दिया है.

उन्होंने कहा कि जन अधिकार पार्टी ने जनता के मुद्दों को लेकर आगामी 20 दिसंबर को रेल चक्का जाम और 22 दिसंबर को सड़क जाम करने का निर्णय लिया है.

First published: 19 December 2016, 3:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी