Home » राजनीति » Parliament pay tribute to revolutionary Cuban leader Fidel Castro
 

संसद में क्यूबा के क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्रो को दी गई श्रद्धांजलि

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 November 2016, 15:46 IST

भारत की संसद में आज क्यूबा के क्रांतिकारी नेता फिदेल कास्त्रो को श्रद्धांजलि दी गई. क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो का 25 नवंबर को 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया. संसद के दोनों सदनों में सांसदों ने फिदेल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए दो मिनट का मौन धारण किया.

राज्यसभा में सभापति हामिद अंसारी ने फिदेल कास्त्रो को साम्राज्यवाद विरोधी और उपनिवेशवाद विरोधी का एक विजेता बताया और उनकी उपलब्धियों के बारे में सदन को बताया. उन्होंने कहा कि फिदेल कास्त्रो का निधन क्यूबा के लोगों और पूरी दुनिया के लिए एक अपरिवर्तनीय क्षति है.

अंसारी ने बताया कि फिदेल कास्त्रो ने दो बार भारत की यात्रा की. पहली बार साल 1973 में कास्त्रो भारत आए थे. साल 1983 में तो तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी खुद उनके स्वागत के लिए दिल्ली में एयरपोर्ट पर पहुंची थी. कास्त्रो उस वक्त अपनी वियतनाम यात्रा पर थे.

क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री फिदेल कास्त्रो का शनिवार को निधन हो गया. उनके भाई और राष्ट्रपति राउल कास्त्रो ने इसकी घोषणा की. 90 साल के कास्त्रो काफी वक्त से बीमार चल रहे थे.  फिदेल का भारत के साथ बेहद खास रिश्ता था. वह हमेशा भारत को एक महान देश मानते थे. फिदेल कास्त्रो का अंतिम संस्कार 4 दिसंबर को किया जाएगा.

First published: 28 November 2016, 15:46 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी