Home » राजनीति » We stand in support with the Cuban Government and people in this tragic hour: PM Modi
 

पीएम मोदी: 20वीं सदी की सबसे करिश्माई शख़्सियत में से एक थे फिदेल कास्त्रो

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:19 IST
(फाइल फोटो)

क्यूबा के पूर्व राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो के निधन पर दुनिया भर से शोक संवेदनाओं का सिलसिला जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दिवंगत नेता की विदाई पर दुख जताया है.

फिदेल कास्त्रो की शख्सियत की प्रशंसा करते हुए पीएम मोदी ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी है. पीएम ने ट्वीट किया, "फिदेल कास्त्रो बीसवी शताब्दी की दुनिया की सबसे करिश्माई शख्सियत में से एक थे. भारत अपने महान मित्र के निधन पर शोक प्रकट करता है."

पीएम ने ट्विटर पर लिखा, "दुख की इस घड़ी में हम क्यूबा की सरकार और वहां की जनता के साथ खड़े हैं. फिदेल कास्त्रो के दुखद निधन पर मैं क्यूबा की सरकार और लोगों के प्रति अपनी गहरी शोक संवेदना प्रकट करता हूं."

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी फिदेल कास्त्रो के निधन पर श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया, "क्यूबा के क्रांतिकारी नेता, पूर्व राष्ट्रपति और भारत के मित्र फिदेल कास्त्रो के दुखद निधन पर गहरी शोक संवेदना."

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कास्त्रो की तस्वीर के साथ ट्वीट किया, "एक युग का अंत. लेकिन फिदेल कास्त्रो जैसे क्रांतिकारी हमेशा जीवित रहेंगे."

नेल्सन मंडेला फाउंडेशन की तरफ से कास्त्रो को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया गया, "फिदेल कास्त्रो की मौत पर नेल्सन मंडेला फाउंडेशन क्यूबा के लोगों और वहां की सरकार के प्रति गहरी शोक संवेदना प्रकट करता है."

अमेरिकी मीडिया में भी फिदेल कास्त्रो के निधन पर प्रतिक्रिया मिल रही है. न्यूयॉर्क टाइम्स ने उनके एक बयान को ट्वीट किया जिसमें कास्त्रो ने अपनी मौत का अंदेशा जताया था. इसमें लिखा गया, "ज्यों ही मैं 90 साल का हो जाऊंगा सभी की तरह मेरा नंबर भी आएगा,लेकिन क्यूबा की क्रांति के विचार बरकरार रहेंगे."

'साम्राज्यवाद से लड़ने वाले क्रांतिकारी'

पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ़ पार्टी के नेता और पूर्व क्रिकेटर इमरान खान ने भी कास्त्रो को श्रद्धांजलि देते हुए तीन ट्वीट किए हैं. इमरान खान ने ट्विटर पर लिखा, "आज दुनिया ने एक करिश्माई, क्रांतिकारी फिदेल कास्त्रो को खोे दिया, जिन्होंने साम्राज्यवाद के चंगुल से अपने देश को आजाद कराया."

इमरान ने आगे लिखा, "साम्राज्यवाद के खिलाफ संघर्ष में कास्त्रो अमेरिकी ताकत को चुनौती देकर क्यूबा के आत्मसम्मान को दोबारा स्थापित करते हुए दुनिया के नेता बने. 2005 के भूकंप बाद पाकिस्तान की मदद के लिए क्यूबा से मिले समर्थन को हमारा देश हमेशा याद रखेगा."

First published: 26 November 2016, 2:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी