Home » राजनीति » Char Dham project is a homage to people who loss their live in Kedarnath: PM Modi
 

चार धाम रोड प्रोजेक्ट का आग़ाज़ करते हुए बोले मोदी- 'उत्तराखंड में स्कूटर भी पैसे खाता है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 December 2016, 14:50 IST
(ट्विटर)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में महत्वाकांक्षी चार धाम रोड प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया. पीएम ने इस दौरान भारतीय जनता पार्टी की परिवर्तन रैली को भी संबोधित किया. 

इस दौरान पीएम ने विपक्ष को निशाने पर लिया. पीएम मोदी ने प्रोजेक्ट का उद्घाटन करते हुए कहा कि इससे उत्तराखंड के लोगों को रोजगार के अवसर हासिल होंगे. पीएम ने यहां 12 हजार करोड़ के गंगोत्री, यमुनोत्री, बदरीनाथ और केदारनाथ को जोड़ने वाले प्रोजेक्ट की शुरुआत की है. 

'केदारनाथ के मृतकों को तर्पण है योजना'

पीएम ने कहा, "उत्तराखंड के लोगों का खुशी होना स्वाभाविक है,. आज ये शिलान्यास उन हजारों लोगों को श्रद्धांजलि है, जो केदारनाथ के हादसे में मारे गए. हिंदुस्तान के हर कोने से किसी न किसी ने जिंदगी गंवा दी थी.ये योजना उन्हें तर्पण है." 

पीएम मोदी ने इस दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, "मेरे देश में ऐसी सरकारें आईं कि 125 करोड़ के इस देश में आवश्यक सुविधाएं नहीं दे पाईं. ये राजनेता समझ लें कि वो जमाना चला गया, जनता है, सब कुछ जानती है. " 

'श्रवण कुमार की तरह गडकरी'

चार धाम प्रोजेक्ट के बारे में पीएम मोदी ने कहा, "आप लोगों को लगता होगा कि कि मोदी जी आपने आते ही शुरू क्यों नहीं किया? मेरे लिए यह पॉलिटिकल कार्यक्रम नहीं है. मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि जब भी आप केदारनाथ-बदरीनाथ की यात्रा पर आएंगे आप इस सरकार को याद रखेंगे और नितिन जी (नितिन गडकरी) श्रवण कुमार की तरह याद किए जाएंगे."  

उत्तराखंड के स्कूटर घोटाले का जिक्र

उत्तराखंड के स्कूटर घोटाले का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा, "इंसान पैसे खाता है यह तो हमने सुना था, इंसान पैसे मारता है, लेकिन उत्तराखंड में तो स्कूटर भी पैसा खा जाता है. उत्तराखंड में तो स्कूटर भी चोरी करता है. 

पीएम ने आगे कहा, "यहां पांच लीटर की टंकी वाले स्कूटर में 35 लीटर पेट्रोल भरवाया गया. इसी दुराचार और भ्रष्टाचार ने भारत जैसे सोने की चिड़िया को बर्बाद किया है. इसलिए मुझे आपका साथ चाहिए. ये लूट-खसोट बंद होना चाहिए. ये भ्रष्टाचार, आतंकवाद, जाली नोट बंद होने चाहिए."

पीएम के संबोधन की अहम बातें

1. 2014 में लोकसभा का चुनाव था मैं स्वयं पीएम का उम्मीदवार था तो आधा मैदान ही भरा था, तब आपने अच्छे-अच्छों को धूल चटा दिया, इस बार क्या होगा, ये जनसैलाब इतनी बड़ी तादाद में आपका आना इस बात का संकेत है कि अब उत्तराखंड विकास के लिए इंतजार नहीं करना चाहता. 

2. आज यहां जिस प्रकल्प का श‍िलान्यास हुआ है, वह उन हजारों लोगों को श्रद्धांजलि है, जिन्होंने केदारनाथ के हादसे में अपनी जिंदगी गंवा दी थी. 

3. ये शिलान्यास हर हिंदुस्तानी के मन को संतोष देने वाला है, जिसे कभी न कभी मां गंगा के तट पर आना है, जो अपने बूढ़े मां-बाप को लेकर गंगोत्री, यमुनोत्री, आना चाहता है. 

4. इससे उत्तराखंड के लोगों को रोजगार मिलेगा. अभी बद्रीनाथ-केदारनाथ यात्रा पर कोई आता है तो दो-तीन दिन खाली रखता है, लैंड स्लाइड की आशंका रहती है, अनिश्च‍ितता रहती है. आप जिस मकसद से आते हैं उसमें हर चिंता से मुक्त रहना चाहिए, लेकिन यहां आने पर इस बात की चिंता रहती है कि कहीं लैंड स्लाइड न हो, बाधा अवरोध न हो.

5. राजनेता समझ लें, वह जमाना चला गया, अब जनता सब जानती है. बिना बजट के पत्थर गाड़ते जाओगे तो इससे विकास नहीं होगा. जल्दबाजी में की गई योजनाओं से राजनीति तो चल सकती है, लेकिन समाजनीति नहीं चल सकती. 

6. 3 साल के अन्दर-अन्दर 5 करोड़ गरीब परिवारों को गैस का कनेक्शन देने का काम हम कर रहे हैं.

7. देश की जनता ने मुझे चौकीदारी का काम दिया है और अब जब मैं चौकीदारी कर रहा हूं, तो कुछ लोगों को परेशानी हो रही है. मैं देश के ईमानदारों को शक्तिशाली बनाने के लिए काले धन के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा हूं.

8. चार धाम हाईवे प्रोजेक्ट से 900 किलोमीटर से ज्यादा सड़क का निर्माण होगा. इस प्रोजेक्ट के जरिए कनेक्टिविटी के साथ-साथ पर्यटन के क्षेत्र में भी नई ऊंचाई पर राज्य पहुंचेगा.

9. आतंकवाद, ड्रग माफिया, मानव व्यापार और अंडरवर्ल्ड की दुनिया पल भर में तबाह कर दी. 8 नवंबर के एलान के बाद एक झटके में जाली नोट से लेकर ड्रग माफिया सबकी कमर टूट गई है. अगर देश को आगे बढ़ना है तो भ्रष्टाचार खत्म होना चाहिए. आठ नवंबर के बाद जाली नोटों का खेल जीरो हो गया.

10. अभी उत्तराखंड ऐसे गड्ढे में पड़ा है कि इसको बाहर निकालने के लिए डबल इंजन की जरूरत है. एक दिल्ली का और एक उत्तराखंड का.

First published: 27 December 2016, 14:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी