Home » राजनीति » For Congress, party is above the country but for BJP the country's interests are supreme: PM Modi
 

पीएम मोदी: इंदिरा जी ने नोटबंदी पर दबाई थी रिपोर्ट, कहा था चुनाव नहीं लड़ना चाहते क्या!

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 December 2016, 11:56 IST
(फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के मुद्दे पर बीजेपी संसदीय दल की बैठक के दौरान विपक्ष के रवैए पर सवाल उठाए. प्रधानमंत्री ने संसद के शीतकालीन सत्र में एक महीने से चल रहे कांग्रेस और विपक्ष के  हंगामे पर निशाना साधा. 

समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि इस दौरान पीएम मोदी ने वांगचू कमेटी की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा, "वांगचू कमेटी ने विमुद्रीकरण के लिए इंदिरा गांधी जी से सिफारिश की थी, लेकिन उन्होंने रिपोर्ट को लागू न करते हुए इसे दबा दिया."

समाचार एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि संसदीय दल की बैठक के दौरान पीएम मोदी ने इस घटना के बारे में कहा, "इंदिरा जी ने उस वक्त वाईबी चव्हाण से कहा कि क्या आप चुनाव नहीं लड़ना चाहते? नोटबंदी लागू करना कांग्रेस की जिम्मेदारी थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया."

1971 में वांगचू कमेटी की रिपोर्ट

आज से 45 साल पहले साल 1971 में आई वांगचू कमेटी की रिपोर्ट में काले धन को कैंसर जेसै रोग की तरह बताया गया था. रिपोर्ट के मुताबिक एक बार यह रोग अगर किसी देश की अर्थव्यवस्था को जकड़ ले, तो फिर इकोनॉमी से जुड़े क्षेत्रों के साथ-साथ अन्य सभी अपरोक्ष क्षेत्रों को भी उतना ही प्रभावित करता है. 

चुनाव में काले धन के इस्तेमाल और राजनीतिक चंदे को लेकर चुनाव सुधार के लिए वांगचू कमेटी बनी थी. हालांकि जानकार मानते हैं कि ज्यादातर राजनीतिक दल चुनाव खर्च को लेकर गंभीर नहीं रहे.  

 सुधार के लिए सबसे पहले 1964 में संथानम समिति बनाई गई. फिर 1971 में वांगचू समिति और 1990 में गोस्वामी समिति गठित की गई थी. 1993 में वोहरा समिति और 1998 में इंद्रजीत गुप्त समिति ने भी चुनाव व्यवस्था में सुधार के लिए कई अहम सिफारिशें कीं.

'कांग्रेस के लिए देश से बढ़कर पार्टी'

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पीएम मोदी ने बैठक के दौरान कहा कि कांग्रेस के लिए देश से बढ़कर पार्टी है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के लिए देशहित सर्वोच्च है.  

पीएम मोदी ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक में कहा कि पहले विपक्ष पहले टूजी और कोलगेट जैसे भ्रष्टाचार के मुद्दों पर एकजुट रहता था, लेकिन अब वह सरकार के काले धन और भ्रष्टाचार को रोकने के कदम के खिलाफ खड़ा है.

'जीवन शैली बने डिजिटल पेमेंट'

संसद में मोदी सरकार की नोटबंदी पर मचे घमासान के बीच अंतिम दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में भाजपा संसदीय दल की बैठक हुई. इस दौरान कैशलेस अर्थव्यवस्था को लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद बैठक ने एक प्रेजेंटेशन दिया और डिजिटल रोडमैप पर बात की.  

बैठक के बाद संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा, "प्रधानमंत्री ने देश के लोगों से अपील की है कि डिजिटल इकोनॉमी और लेनदेन को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाना चाहिए. यह पारदर्शी और प्रभावी रहेगा."  

इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के सांसदों से कहा कि वे जनता को डिजिटल लेनदेन के फायदों के बारे में बताते हुए जागरूक करें. 

First published: 16 December 2016, 11:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी