Home » राजनीति » PM Modi's dalit minister Thawar Chand Gehlot pain: we dig well cant drink water
 

मोदी के 'दलित मंत्री' का दर्द- कुआं हमसे खुदवा लेते हो लेकिन पानी पीने से रोकते हो

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 April 2017, 11:38 IST
(पत्रिका फाइल फोटो)

केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि उन्हें भी भेदभाव झेलना पड़ा है. मध्य प्रदेश के उज्जैन में एक कार्यक्रम के दौरान सार्वजनिक जीवन में दलित समाज के साथ भेदभाव को लेकर उनका दर्द छलक पड़ा.  

केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री ने कहा, "आप हमसे कुआं खुदवा लेते हैं, लेकिन हमें पानी पीने से आप रोकते हैं. मंदिर के दरवाजे हमारे लिए बंद कर दिए जाते हैं." मध्य प्रदेश के उज्जैन में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर पर आयोजित एक सेमिनार के दौरान केंद्रीय मंत्री ने अपने विचार व्यक्त किए. 

'दर्शन तो हमें कर लेने दो'

थावरचंद गहलोत ने इस दौरान कहा, "कुआं हमेशा खुदवा लेते हो, वो जब आपका हो जाता है तो पानी पीने से रोकते हो. तालाब बनाना हो तो मजदूरी हमसे करवाते हो, उस समय हम उसमें पसीना भी गिराते हैं, थकते हैं. लघुशंका (पेशाब) आती है तो दूर नहीं जाते वहीं करते हैं. लेकिन जब उसका पानी पीने का अवसर मिलता है तो हमसे भेदभाव होता है." 

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, "आप मंदिर में जाकर मंत्रोच्चारण करते हो, उसके बाद वे दरवाजे हमारे लिए बंद हो जाते हैं, आखिर कौन ठीक करेगा इसे? मूर्ति हमें बनानी, भले ही आपने पारिश्रमिक दिया होगा, पर दर्शन तो हमें कर लेने दो." 

एमपी के उज्जैन से गहलोत का ताल्लुक

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में गहलोत ने खुद से भेदभाव का जिक्र करते हुए कहा, "मैं एक मंत्री हूं, भेदभाव भले ही कम हो गया होगा, लेकिन अभी भी यह मौजूद है. जब मेैं युवा था तब भी भेदभाव झेला है. मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक हॉस्टल में ‘निचली जाति’ के छात्रों को मंदिर जाने के लिए सुरक्षा मुहैया कराई गई थी."

उज्जैन के नागदा के रूपेता गांव में जन्मे थावरचंद गहलोत तीन बार मध्य प्रदेश विधानसभा के लिए चुने जा चुके हैं. 68 साल के गहलोत चार बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हो चुके हैं. मई 2012 से वे राज्यसभा के सदस्य हैं. 2014 के आम चुनाव में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने पर उन्हें सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री का ओहदा सौंपा गया.

First published: 10 April 2017, 11:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी