Home » राजनीति » pm narendra modi addressed election rally in arunach pradesh and tripura
 

पीएम मोदी ने कसा कांग्रेस पर तंज, कहा "जब बाल्टी में छेद होगा तो पानी टपकेगा ही"

न्यूज एजेंसी | Updated on: 15 February 2018, 16:40 IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने एक दिवसीय अरुणाचल प्रदेश और त्रिपुरा के दौरे के दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के शासनकाल के दौरान गरीबों के पैसे का दुरुपयोग हुआ. त्रिपुरा में 18 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है. मोदी ने एक रैली में कहा, "हमारे देश में पैसे का अकाल कभी नहीं था. लेकिन, जब बाल्टी में छेद होगा तो पानी टपकेगा ही. यह हालात हमारे देश में पहले रहे हैं."

ये भी पढ़ें- भाजपा नेता: प्रिया प्रकाश को फॉलो करने वाले युवा पकौड़े बेचने लायक

राज्य में हिंदी भाषी लोगों के बहुसंख्या में होने की सराहना करते हुए मोदी ने कहा कि पूर्वोत्तर में जहां एक राज्य ऐसा है जहां हिंदी बड़े पैमाने पर बोली जाती है तो वह है 'मेरा अरुणाचल.'
भारतीय जनता पार्टी ने जनवरी 2017 में हुए राजनीतिक ड्रामे के बीच राज्य में सरकार बनाई थी. उस समय मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने अपने 33 विधायकों के साथ पाला बदल लिया था.

मोदी ने कहा, "अगर आप एक दिन के लिए अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करते हैं तो आपको पूरे देश में कहीं की भी एक सप्ताह की यात्रा की तुलना में यहां जय हिंद के नारे ज्यादा सुनाई देंगे."
उन्होंने इटानगर में एक सम्मेलन केंद्र का भी उद्घाटन किया और कहा कि जीवंत केंद्र अरुणाचल प्रदेश की आकांक्षाओं को आगे बढ़ाएगा.


यह सवाल उठाते हुए कि दिल्ली में ही क्यों इस तरह की बैठकें होनी चाहिए, मोदी ने कहा, "सरकारी अधिकारियों और निजी कंपनियों को यहां सम्मेलन और सांस्कृतिक गतिविधियां करानी चाहिए. मैं लोगों से निजी तौैर पर कहूंगा कि अरुणाचल प्रदेश जाइए और वहां के केंद्रों में महत्वपूर्ण बैठकें करिए."


उन्होंने कहा, "हमें सभी राज्यों में जाना चाहिए और इसलिए मैं पूर्वोत्तर परिषद की बैठक के लिए शिलांग आया और सिक्किम में कृषि से संबंधित एक महत्वपूर्ण बैठक की थी."


मोदी ने कहा कि न केवल पूर्वोत्तर में बल्कि देश में भी स्वास्थ्य क्षेत्र में बहुत कुछ करने की जरूरत है. उन्होंने मानव संसाधन, बुनियादी ढांचे और क्षेत्र में आधुनिक प्रौद्योगिकी को विकसित करने पर जोर दिया.


उन्होंने कहा, "स्वास्थ्य क्षेत्र को विशेष ध्यान देने की जरूरत है. स्वास्थ्य देखभाल अच्छी गुणवत्ता के साथ साथ किफायती होना चाहिए. हम देश के सभी हिस्सों में चिकित्सा संस्थान बनाने पर काम कर रहे हैं. जब कोई किसी विशेष क्षेत्र में अध्ययन करता है, तो वह स्थानीय स्वास्थ्य चुनौतियों से बेहतर परिचित हो जाता है."
मोदी बाद में त्रिपुरा जाएंगे जहां वह 18 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर दो रैलियों को संबोधित करेंगे.

First published: 15 February 2018, 16:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी