Home » राजनीति » president election 2017: mayawati says No matter who wins, President will be from Scheduled Caste.
 

मायावती: पहली बार दो दलित राष्ट्रपति उम्मीदवार, बाबा साहेब और बसपा की देन

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2017, 12:37 IST

राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग चल रही है. इस बार मुकाबला एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच है. दोनों पक्षों ने राष्ट्रपति पद के लिए दलित उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है.

बसपा सुप्रीमो मायवती ने सोमवार को वोटिंग के दौरान कहा कि यह पहली बार है कि सत्ता और विपक्ष की ओर से दलित उम्मीदवार मैदान में उतारा गया है. जीत या हार किसी की भी हो लेकिन राष्ट्रपति दलित ही होगा. मायावती ने कहा कि यह देन बाबा साहेब अंबेडकर की है, माननीय कांशीराम जी की है और बहुजन समाज पार्टी की है.

गौरतलब है कि एनडीए के राष्ट्रपति उम्मीदवार रामनाथ कोविंद मूलत: रूप से उत्तर प्रदेश के कानपुर से ही आते हैं, रामनाथ कोविंद दलित समुदाय से हैं. भाजपा के कोविंद को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद विपक्ष ने भी दलित कार्ड चलते हुए पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया था.

दरअसल लोकसभा में इस समय बसपा का कोई भी सांसद नहीं है और मायावती भी राज्यसभा सदस्य हैं. यूपी में बसपा के 19 विधायक हैं. हालांकि बसपा के राज्यसभा में 6 सांसद हैं. वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा.

First published: 17 July 2017, 12:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी