Home » राजनीति » presidential elections 2017: Ram Nath Kovind, Meira Kumar in contest, voting begins at 10 am.
 

'रायसीना हिल्स' की रेस: राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग, कोविंद का पलड़ा भारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2017, 12:32 IST

देश के 14वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार सुबह दस बजे वोटिंग शुरू हुई. एनडीए के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद और यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार के बीच रायसीना हिल्स के लिए मुकाबला है. वोटों की गिनती 20 जुलाई को दिल्ली में ही होगी, जहां सभी बैलेट बॉक्स लाए जाएंगे. 20 जुलाई को ही देश के 14 वें राष्ट्रपति का एलान होगा.

वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो जाएगा. आज संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में शाम 5 बजे तक वोटिंग होनी है. इससे पहले बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने समर्थन जुटाने के मकसद से कई राज्यों का दौरा किया.

रामनाथ कोविंद की जीत तय

राननाथ कोविंद का देश का अगला राष्ट्रपति  बनना लगभग तय है. उन्हें एनडीए के अलावा जेडीयू और बीजू जनता दल (बीजेडी) जैसे विपक्षी दलों का भी समर्थन हासिल है. यहां जेडीयू के पास निर्वाचक मंडल का कुल 1.91 फीसदी वोट है, जबकि बीजेडी के पास 2.99 फीसदी वोट है.

इसके अलावा तेलंगाना में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के पास 2%, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) का एक गुट (5.39 %) और वाईएसआर कांग्रेस (1.53%) ने भी कोविंद के पक्ष में मतदान करने की घोषणा की है. 

जीत के लिए 5,49,452 वोट मिलना ज़रूरी

राष्ट्रपति चुनाव में कुल 4896 वोटर हैं, जिसमें 776 सांसद हैं जबकि 4120 विधायक हैं. खास बात यह है कि इस बार मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक नरोत्तम मिश्रा को आयोग्य ठहराए जाने की वजह से अब विधायकों का कुल वोट 4895 ही रह गया है. राष्ट्रपति चुनाव में कुल पड़ने वाले वोटों की संख्या दस लाख 98 हज़ार 882 है. एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को 63 फीसदी वोट मिलने की उम्मीद है. जीत के लिए निर्वाचक मंडल के 5,49,442 वोट हासिल करने ज़रूरी हैं. 

वहीं राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाकात की. इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमारा भविष्य जीवन के बुनियादी मूल्यों पर है और हमें इसकी रक्षा करना चाहिए. उन्होंने कहा कि मौजूदा राष्ट्रपति चुनाव में भले ही आंकड़े हमारे पक्ष में ना हों, लेकिन ये लड़ाई पूरी ताकत से लड़ी जानी चाहिए.

First published: 17 July 2017, 10:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी