Home » राजनीति » Rahul gandhi attack on Arun Jaitley over meeting with Vijay Mallyain parliament
 

अरुण जेटली ने फ्री पास देकर विजय माल्या को देश से भगाया- राहुल गांधी

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 September 2018, 14:08 IST
(file photo )

शराब कारोबारी विजय माल्या के भारत छोड़ने से पहले वित्त मंत्री से मुलाकात के दावे के बाद कांग्रेस ने अरुण जेटली और मोदी सरकार पर हमला तेज कर दिया है. राहुल गांधी ने हमला बोलते हुए कहा है कि अरुण जेटली देश से झूठ बोल रहे हैं. उन्होंने माल्या के लुकआउट नोटिस को कमजोर किया. उसको भगाने में मदद की. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास सबूत है. राहुल गांधी ने अपने साथी नेता पीएल पुनिया की बात करते हुए कहा कि उन्होंने माल्या और अरुण जेटली को बात करते हुए देखा था.

मीडिया खबरों के मुताबिक, राहुल गांधी ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में मोदी सरकार और अरुण जेटली पर माल्या को देश से भगाने का आरोप लगाया. इस दौरान उनके साथ साथी नेता पीएल पुनिया भी पीसी में उपस्थिति रहे. राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि अरुण जेटली झूठ बोल रहे हैं. माल्या और वित्त मंत्री की मुलाकात कई सवाल खड़े करती है.

उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री एक भगोड़े से बात करते हैं. भगोड़ा देश छोड़ने से पहले उनको बताता है कि वो देश छोड़ रहा है. इसके बारे में ना तो वित्त मंत्री ने पुलिस को जानकारी दी और ना ही सीबीआई को बताया. यह सब एक डील थी. माल्या को देश से भगाया गया. 

इतना ही नहीं माल्या के लुकआउट नोटिस को भी कमजोर किया गया. जेटली को इस मामले में सच बोलना चाहिए. उनको ये बताना चाहिए कि इसके लिए वो खुद जिम्मेदार हैं या फिर इसके लिए उनको ऊफर से फोन आया था. वित्त मंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए.

इस दौरान उनके साथी नेता पीएल पुनिया ने भी माल्या और अरुण जेटली की संसद में मुलाकात को लेकर कई आरोप लगाए हैं. पुनिया ने कहा, मैंने माल्या और अरुण जेटली को बात करते हुए देखा था. बजट पेश होने के अगले दिन एक मार्च को जेटली और माल्या की मुलाकात हुई थी. दोनों बात कर रहे थे.

दोनों के बीच करीब 15-20 मिनट तक बात करते रहे. इसके बाद दोनों संसद हॉल के सेंट्रल हॉल में बैठकर बात करने लगे. इसके दो दिन बात माल्या देश छोड़कर रवाना हो जाते हैं. मैं इस खबर को पढ़कर हैरान रह गया. संसद के सीसीटीवी फुटेज में सारी सच्चाई सामने आ जाएगी. सीसीटीवी की जांच होने चाहिए.

इससे पहले बुधवार को भी राहुल गांधी ने माल्या और जेटली की मुलाकात को लेकर ट्वीट कर वित्त मंत्री का इस्तीफा मांगा था. राहुल गांधी ने लिखा, माल्या की ओर से लगाए गए आरोप बेहद गंभीर हैं और पीएम को तत्काल इस मामले की निष्पक्ष जांच करानी चाहिए. राहुल ने कहा कि जांच पूरी होने तक अरुण जेटली को वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहिए.

आपको बता दें कि माल्या के प्रत्यर्पण का मामला लंदन की कोर्ट में चल रहा है. इसको लेकर लंदन कोर्ट में बुधवार को सुनवाई की गई. कोर्ट में पेश होने पहुंचे माल्या ने मीडिया से बात करते हुए जेटली से मुलाकात को लेकर बड़ा खुलासा किया. माल्या ने कहा, वह भारत से रवाना होने से पहले उसने वित्त मंत्री से मुलाकात की थी और बैंकों के साथ मामले का निपटारा करने की पेशकश की थी.

इस पर जेटली ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. जेटली ने ब्लॉग लिख कहा माल्या के आरोपों को झूठा करार दिया है. वित्त मंत्री ने कहा कि माल्या का बयान तथ्यात्मक रूप से पूरी तरह गलत है और उसमें कोई सच्चाई नहीं है. डेटली ने कहा है कि उन्होंने 2014 के बाद माल्या को मिलने के लिए कोई समय नहीं दिया. माल्या से उनकी मुलाकात का सवाल नहीं नही उठता है. हालांकि उन्होंने कहा है कि एक बार सदन में जरूर माल्या ने उनसे मुलाकात की थी.

First published: 13 September 2018, 14:08 IST
 
अगली कहानी