Home » राजनीति » Rahul Gandhi in Champaran anniversary programme Hindu means to save the truth
 

राहुल गांधी: हिंदू होने का मतलब सच की रक्षा करना, सत्ता और सच्चाई में फ़र्क

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 April 2017, 16:00 IST

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बिहार की राजधानी पटना में महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह की 100वीं सालगिरह पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस दौरान राहुल ने भारतीय जनता पार्टी और मोदी सरकार पर इशारों में निशाना साधा.

राहुल ने कहा, "कोई जरूरी नहीं है कि जिसके पास सत्ता हो, उसमें सच्चाई हो. देश में नफ़रत फैलाने वाले कभी सफल नहीं होंगे. हिंदू होने का मतलब सच्चाई की रक्षा करना है." कार्यक्रम में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे.

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने इस दौरान कहा, "भारत ने 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की पहली लड़ाई लड़ी, इस लड़ाई में हिंदू, मुसलमान, सिख सभी एक साथ लड़े. सत्ता और सच्चाई में फर्क हो सकता है, जिसके पास सत्ता होगी उसके पास सच्चाई नहीं होगी."

सत्ता से डराने की कोशिश का विरोध

राहुल ने कहा, "गाांधी जी जब साउथ अफ्रीका में संघर्ष कर रहे थे, तब उनको यह बात समझ में आयी कि यह ज़रूरी नहीं कि जिसके पास सत्ता है उसके पास सच्चाई है. गांधी जी के सीने में जो गोलियां लगी थीं वो इसलिए लगी थीं क्योंकि वो हिंदुस्तान को जोड़ रहे थे. सत्ता और सच्चाई में फर्क होता है. ज़रूरी नहीं की जिसके पास सत्ता है उसके पास सच्चाई है. गांधीजी यह गहराई से समझते थे'"

राहुल ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, "गांधीजी की जो विचारधारा है. वह नयी नहीं है. हमारे धर्म में गीता में, उपनिषदों में लिखा है कि हिंदू होने का मतलब सच्चाई की रक्षा करना है. हर किताब में लिखा है कि हर एक व्यक्ति का आदर करो, अन्याय के खिलाफ लड़ो, सत्य बोलो और सत्य की रक्षा करो. गांधीजी ने इस विचारधारा को आगे बढ़ाया."

राहुल ने आगे कहा, "गांधीजी समझते थे कि हमारा तिरंगा एक कपड़े का टुकड़ा नहीं है. इसके पीछे रिश्ते हैं. इस तिरंगे के पीछे भाईचारा है, प्यार है चाहे किसी के पास भी सत्ता हो, अगर वो देश में नफरत फैलाने की कोशिश करेंगे, डराने की कोशिश करेंगे, तो ये देश उस बात को मानने के लिए तैयार नहीं है."

राहुल ने इस दौरान कहा, "जलियांवाला बाग में ना हिंदू मरे थे, ना मुसलमान ना सिख मरे थे, वहां हिंदुस्तानी मरे थे." 

First published: 17 April 2017, 16:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी