Home » राजनीति » Rahul Gandhi on farmers loan waiving: A partial relief for UP farmers but a step in the right direction
 

राहुल गांधी: यूपी के किसानों की क़र्ज़माफ़ी सही दिशा में उठाया गया क़दम

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 April 2017, 11:22 IST
(ट्विटर)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने यूपी के किसानों की कर्जमाफी का स्वागत किया है. मंगलवार को पहली कैबिनेट बैठक में यूपी को योगी आदित्यनाथ सरकार ने सीमांत और लघु किसानों का 36359 करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने का फैसला किया है. इससे राज्य के तकरीबन 86 लाख किसानों को एक लाख रुपये तक के फसली कर्ज पर फायदा मिलेगा. 

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने ट्वीट करते हुए यूपी सरकार के इस कदम का स्वागत किया है. राहुल ने ट्वीट में लिखा, "उत्तर प्रदेश के किसानों आंशिक राहत मिली है, लेकिन ये सही दिशा में उठाया गया कदम है. कांग्रेस ने हमेशा कर्ज से परेशान किसानों की कर्जमाफी का समर्थन किया है." 

राहुल गांधी ने दूसरे ट्वीट में लिखा, "मुझे खुशी है कि बीजेपी ऐसा करने पर मजबूर हुई. लेकिन हमारे किसानों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए जो देश भर में परेशानी झेल रहे हैं."

'राज्यों के किसानों से न हो भेदभाव'

राहुल ने साथ ही कहा, "केंद्र सरकार को राष्ट्रीय स्तर पर किसानों की कठिनाई दूर करने के लिए कोशिश करनी चाहिए. सरकार को राज्यों में भेदभाव नहीं करना चाहिए." 

गौरतलब है कि यूपी में किसानों के कर्ज के मुद्दे पर राहुल गांधी ने पिछले साल 27 साल यूपी बेहाल के नारे के साथ किसान यात्रा निकाली थी. हालांकि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा और महज सात सीटों पर सिमट गई.  

यूपी के 86 लाख किसानों को राहत

यूपी के स्वास्थ्य मंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह के मुताबिक यूपी के 92.5 फीसदी यानी 2 करोड़ 15 लाख लघु और सीमांत किसानों को कर्जमाफी का लाभ मिलेगा. हालांकि सरकारी प्रेसनोट में ये संख्या तकरीबन 86 लाख बताई गई है. किसानों का कुल 30 हजार 729 करोड़ का कर्ज माफ हुआ है. इन किसानों का अधिकतम एक लाख रुपये तक का कर्ज माफ किया गया है.

इसके अलावा 7 लाख किसानों का लोन जो एनपीए बन गया है वो भी माफ किया गया है. इन किसानों पर तकरीबन 5630 करोड़ रुपये का एनपीए था. इस तरह यूपी सरकार ने कुल मिलाकर 36 हजार 359 करोड़ रुपये का सीमांत और लघु किसानों का कर्ज माफ किया है.

First published: 5 April 2017, 11:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी