Home » राजनीति » railway recruitment exam 2018 piyush goyal said fee will be refunded after exam
 

Railway Recruitment 2018: उम्मीदवारों की जीत, रेलवे का बढ़ी फीस लौटाने का ऐलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 February 2018, 22:39 IST

रेलवे परीक्षा की तैयार कर रहे उम्मीदवारों को रेल मंत्रालय ने खुशखबरी देते हुए आवेदन फीस वापस करने का ऐलान किया है. रेल मंत्री पीयूष गोयल आवेदन शुल्क वापस करने के लिए कुछ जरूरी शर्ते भी रखी हैं. इन शर्तों को पूूरा करने वाले उम्मीदवारों की ही फीस वापस की जाएगी.

बता दें कि भारतीय रेलवे ने हाल ही में बम्पर वैकेंसी निकाली हैं. इसके लिए करीब 90 हजार विभिन्न पदों पर भर्ती होनी है. इस परीक्षा के लिए बड़ी संख्या में युवाओ ने आवेदन किए हैं. रेल मंत्रालय ने पहले के मुकाबले इस बार आवेदन शुल्क में इजाफा किया है, इसी को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बड़ा ऐलान करते हुए फीस वापसी की बात कही है.

ये भी पढ़ें- सेना प्रमुख का बयान- भाजपा से तेज बढ़ी मुस्लिमों की पैरोकार पार्टी AIUDF

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आवेदन शुल्क बढ़ाए जाने पर सफाई देते हुए कहा कि शुल्क बढ़ाने का फैसला इसलिए लिया गया ताकि परीक्षा के लिए गंभीर उम्मीदवार ही आवेदन करें. कई बार कम शुल्क की वजह से लोग आवेदन कर देते हैं लेकिन परीक्षा नहीं देते. ऐसे में सरकार को नुकसान होता है. उन्होंने यह भी कहा है कि अगर उम्मीदवार परीक्षा देता है तो बढ़ा हुआ शुल्क वापस कर दिया जाएगा.

 किसी भी भाषा में किए जा सकते हैं सिग्नेचर- रेल मंत्री

वहीं उम्मीदवार के हस्ताक्षर के बारे में स्पष्ट किया कि उम्मीदवार किसी भी भाषा में सिग्नेचर कर सकता है. बता दें कि पहले ऐसी खबरें आ रही थीं कि आवेदन पत्र पर सिर्फ हिन्दी या अंग्रेज़ी में किया गया सिग्नेचर ही मान्य होगा, लेकिन रेल मंत्री ने इस बात को भी खारिज कर दिया.

इस वजह से बढ़ाई गई आवेदन फीस

रेल मंत्री ने आवेदन शुल्क बढ़ाए जाने के बारे में कहा कि कई बार अगर शुल्क न रखा जाए तो बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी आवेदन करते हैं, जो परीक्षा देने के लिए गंभीर नहीं होते और उस स्थिति में यह होता है कि परीक्षा के दिन ऐसे आवेदक परीक्षा देने ही नहीं आते. जिससे परीक्षा के लिए सरकार द्वारा किए गए इंतजाम पर खर्च हुआ पैसा बर्बाद हो जाता है.

रेल मंत्री ने कहा कि इसीलिए इस बार रेलवे ने तय किया है कि अनुसूचित जाति व जनजाति समेत जिन वर्गों को पहले इस तरह की परीक्षा के लिए आवेदन के साथ कोई राशि नहीं देनी होती थी, उन्हें अब 250 रुपये फीस देनी होगी. जबकि अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपये आवेदन शुल्क के रूप में अदा करनी होगी.

परीक्षा के बाद वापस होगी बढ़ी हुई एग्जाम फीस

रेल मंत्री का कहना है कि आवेदन करने वालों में से जितने उम्मीदवार परीक्षा देंगे, उनमें से आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को उनकी पूरी फीस यानी 250 रुपये वापस कर दी जाएगी. वहीं अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 500 रुपये के शुल्क में से 400 रुपये वापस कर दिए जाएंगे.

इस तरह से अनारक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए रेलवे भर्ती में आवेदन करने का एक तरह से पहले की तरह ही महज 100 रुपये शुल्क होगा. जबकि आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को 250 रुपये वापस मिल जाएंगे. रेल मंत्री के मुताबिक भर्ती परीक्षा कंप्यूटर के जरिए ही होगी और यह 15 भाषाओं में दी जा सकेगी.

First published: 22 February 2018, 22:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी