Home » राजनीति » Rajasthan: Ashok Gehlot make himself CM candidate war within congress leaders
 

राजस्थान: अशोक गहलोत खुद ही बन बैठे CM पद का चेहरा, कांग्रेस में मच गया बवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2018, 9:03 IST

राजस्थान में अभी विधानसभा चुनाव की घोषणा भी नहीं हुई थी इससे पहले ही कांग्रेस पार्टी में मुख्यमंत्री पद के लिए खींचतान शुरू हो गई है. अजमेर और अलवर लोकसभा उपचुनाव में मिली जीत के बाद प्रदेश में बीजेपी को हराने का ख्वाब देख रही कांग्रेस में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी ठोंकी जाने लगी है. इस बीच राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने खुद को सीएम पद के चेहरे के रूप में पेश कर दिया है, जिसके बाद कांग्रेस में बवाल मच गया है.

दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रदेश में कद्दावर नेता माने जाने वाले अशोक गहलोत को केंद्रीय संगठन में जिम्मेदारी दी है. लेकिन गहलोत ने उदयपुर में पार्टी की एक बैठक में खुद को मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में पेश कर दिया. गहलोत ने कहा, "राजस्थान के लोग एक चेहरे से परिचित हैं, जो 10 वर्षो तक मुख्यमंत्री रह चुका है. मुख्यमंत्री के इस चेहरे पर इससे अधिक और क्या स्पष्टीकरण क्या हो सकता है."

पढ़ें- शिवसेना- पंकजा मुंडे को महाराष्ट्र का CM बनाते ही एक घंटे के अंदर हो जाएगा ये काम

इसके बाद कांग्रेस पार्टी असहज हो गई है. बता दें कि कांग्रेस आलाकमान धीरे-धीरे राज्य के युवा नेता सचिन पायलट को चेहरे के तौर पर आगे बढ़ा रहा है. लेकिन अशोक गहलोत के इस बयान से पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री लालचंद कटारिया ने भी हाल ही में कहा था कि गहलोत का नाम पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया जाना चाहिए. इसके बाद अब कांग्रेस में खेमेबाजी साफ दिख रही है.

हालांकि कांग्रेस की पूरी कोशिश है कि पार्टी के अंदर खेमेबाजी न होने पाये लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है. मुख्यमंत्री पद को लेकर पार्टी के नेताओं की ओर से की जा रही इस बयानबाजी को बंद करने के लिये पार्टी महासचिव और राज्य के पार्टी प्रभारी अविनाश पांडेय को सामने आना पड़ा. अविनाश पांडेय को कहना पड़ा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा.

पढ़ें- मध्यप्रदेश: शिवराज दिग्विजय सिंह को छोड़ उमा भारती समेत कई पूर्व मुख्यमंत्रियों पर हुए मेहरबान

अविनाश पांडेय ने कहा, "कटारिया एक वरिष्ठ नेता हैं और हम सभी पार्टी को दिए उनके योगदान का सम्मान करते हैं. हम हाल में उनकी तरफ से जारी बयान पर उनके स्पष्टीकरण का भी इंतजार कर रहे हैं." उन्होंने पार्टी नेताओं को अगाह करते हुये कहा कि वे आगामी विधानसभा चुनाव से पहले गैरजरूरी बयान ना दें. राष्ट्रीय नेतृत्व इस तरह की किसी भी टिप्पणी को गंभीरता से लेगा.

First published: 29 July 2018, 9:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी