Home » राजनीति » Rajasthan Political Crisis: 30 Congress MLAs, some independents pledge support to Sachin Pilot
 

Rajasthan Political Crisis: अल्पमत में आई गलहोत सरकार, 30 विधायकों ने सचिन पायलट को दिया समर्थन- रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2020, 21:58 IST

Rajasthan Political Crisis: राजस्थान (Rajasthan) का सियासी ड्रामा थमने का नाम नहीं ले रहा है. राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehlot) और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ( Sachin Pilot) के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गए हैं, जिसके बाद राज्य की गलहोत सरकार पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं. वहीं कांग्रेस आलाकमान ने राज्य के सियासी हालात को देखते हुए तीन कांग्रेस के नेताओं- रणदीप सुरजेवाला, अजय माकन और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे को जयपुर भेजने का फैसला किया है.

इस बीच न्यूज एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट कांग्रेस पार्टी की चिंता बढ़ा सकती है. खबर के अनुसार, कांग्रेस और कुछ निर्दलिय विधायकों की संख्या मिलाकर कुल 30 विधायकों ने सचिन पायलट को समर्थन देने का फैसला लिया है और वो उन्होंने दावा किया है कि वो हर फैसले में उनके साथ है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कांग्रेस विधायकों के समर्थन के बाद राज्य की गहलोत सरकार अल्पमत में आ गई है.


राज्य में सियासी घमासान के बीच सोमवार सुबह 10:30 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है, लेकिन सचिन पायलट ने साफ किया है कि वो इस बैठक में हिस्सा नहीं लेने वाले हैं. खबरों के अनुसार, सचिन पायलट के समर्थन वाले विधायक भी इस मीटिंग में जाने वाले नहीं है. दूसरी तरफ अशोक गहलोत दावा कर रहे हैं कि उनके साथ 100 से अधिक विधायक हैं और उनके पास बहुमत है.

 

इससे पहले दिन में सचिन पायलट के खेमे के तीन विधायक दानिश अबरार, चेतन डूडी और रोहित बोहरा दिल्ली से मुख्यमंत्री निवास पहुंचे और वहां पर उन्होंने प्रेस के सामने दावा किया है कि उनकी आस्था अशोक गहलोत में हैं और वो दिल्ली व्यक्तिगत कामों के लिए गए थे. इन तीनों विधायकों का अशोक गहलोत के साथ आना सचिन पायलट के लिए झटका माना जा रहा है, क्योंकि तीनों विधायक सचिन पायलट के करीबी दोस्त हैं.

क्यों है सियासी घमासान

दरअसल, बीते दिनों राज्यसभा चुनावों से पहले अशोक गलहोत ने बीजेपी पर आरोप लगाए थे कि बीजेपी उनकी सरकार के विधायकों को खरीदने की कोशिश कर रही है जिसके बाद जांच के लिए एक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप का गठन किया गया था. स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने सचिन पायलट और उनके करीबियों को नोटिस भेजा, जिसके बाद सचिन पायलट और उनके खेमे में नाराजगी है. मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि सचिन पायलट को लग रहा है कि अशोक गहलोत जानबूझकर उनके बदनाम कर रहे हैं.

राजस्थान कांग्रेस में फूट, कपिल सिब्बल ने कहा- क्या घोड़ों के अस्तबल से भागने के बाद हम जागेंगे

राजस्थान: अशोक गहलोत की सरकार खतरे में ! हरियाणा के होटल में पहुंचाए गए 24 विधायक

First published: 12 July 2020, 21:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी