Home » राजनीति » Rajmohan gandhi: Cleaver baniya defeated british lions and communal snake in our country
 

राजमोहन गांधी: 'ब्रिटिश शेरों' पर जीत हासिल करने वाला 'चतुर बनिया' से कहीं अधिक था...

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2017, 8:44 IST

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को चतुर बनिया कहे जाने पर उनके पौत्र राजमोहन गांधी ने शनिवार को कहा कि 'ब्रिटिश शेरों' और देश में 'सांप्रदायिक जहर वाले सांपों' पर जीत हासिल करने वाला शख्स 'चतुर बनिया' से कहीं अधिक था.

राजमोहन गांधी फिलहाल अमेरिका में हैं. उन्होंने कहा कि आज महात्मा का लक्ष्य भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से कहीं अलग होता. शाह ने कल रायपुर में एक सभा में महात्मा गांधी को 'चतुर बनिया' बताया था.

अमेरिका के इलिनॉय विश्वविद्यालय में शोध प्रोफेसर गांधी ने ई-मेल के जरिए भेजे गए जवाब में कहा, 'जिस व्यक्ति ने ब्रिटिश शेरों और सांप्रदायिक जहर वाले सांपों पर जीत हासिल की, वह चतुर बनिया से कहीं अधिक था. अमित शाह जैसे लोगों के विपरीत आज उनका लक्ष्य निर्दोष और कमजोर लोगों का शिकार कर रही शक्तियों को पराजित करना होता.'

शाह के 'चतुर बनिया' वाले बयान की निंदा करते हुए विपक्षी पार्टियों ने आज मांग की कि उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए. साथ ही विपक्षी दलों ने इस बात पर जोर दिया कि अपमानजनक बयान को वापस लिया जाना चाहिए.

महात्मा गांधी के एक अन्य पौत्र गोपालकृष्ण गांधी ने भी कहा कि गांधी 'चतुर बनिया' बताये जाने को हंस कर टाल देते परंतु यह टिप्पणी 'बदमजा है और इसके पीछे छिपी गलत मंशा' है.'

गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जाति के संदर्भ में उनके लिए ‘बहुत चतुर बनिया’ शब्द का उल्लेख कर राजनैतिक विवाद को जन्म दे दिया है. कांग्रेस और अन्य दलों ने राष्ट्रपिता का अपमान करने के लिए शाह को माफी मांगने को कहा. हालांकि, शान ने माफी मांगने से साफ इनकार दिया है.

शाह ने रायपुर में कल प्रबुद्ध नागरिकों के एक समूह को संबोधित करते हुए, महात्मा गांधी का जिस बनिया जाति में जन्म हुआ था उसका उल्लेख किया था.

उन्होंने कहा था, "महात्मा गांधी दूरदर्शी होने के साथ ही बहुत 'चतुर बनिया' थे. उन्हें मालूम था कि आगे क्या होने वाला है. उन्होंने आजादी के बाद तुरंत कहा था कि कांग्रेस को भंग कर दिया जाना चाहिए. यह काम महात्मा गांधी ने नहीं किया लेकिन अब कुछ लोग कांग्रेस को भंग करने का काम कर रहे हैं."

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने ऐसा इसलिए कहा था क्योंकि कांग्रेस की स्थापना विचारधारा के आधार पर नहीं हुई थी। यह एक तरह से आजादी हासिल करने के लिए ‘विशेष उद्देश्य उपक्रम’ सरीखा था.  आलोचना का सामना करने के बाद भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अघ्यक्ष अमित शाह ने कहा कि सभी जानते हैं कि उन्होंने किस संदर्भ में यह बात कही है.

First published: 11 June 2017, 8:44 IST
 
अगली कहानी