Home » राजनीति » Rajya Sabha Polls: Amit Shah's Gujarat game plan Ahmed Patel facing tough task
 

अमित शाह के चक्रव्यूह में घिरे अहमद भाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 August 2017, 11:31 IST

गुजरात में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान जारी है. इस बार का चुनाव कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल के लिए परीक्षा की घड़ी है, क्योंकि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उनका रास्ता रोकने के लिए पूरी प्लानिंग की हुई है.

पटेल राज्यसभा में अपने पांचवें कार्यकाल के लिए चुनाव मैदान में हैं. चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों की दावेदारी काफी मजबूत मानी जा रही है. कांग्रेस से बागी हुए शंकर सिंह वाघेला ने इसके संकेत दे दिए. अपना वोट डालने के बाद वाघेला ने साफ कहा कि उन्होंने कांग्रेस को अपना वोट नहीं दिया है.

वाघेला ने कहा, "जब कांग्रेस जीतने वाली ही नहीं है, तो वोट बिना मतलब कांग्रेस को देने का कोई मतलब नहीं था. हमने अहमद पटेल को वोट नहीं दिया." वाघेला ने साथ ही कहा कि कांग्रेस को उन्होंने पहले चेताया था लेकिन पार्टी ने अहमद पटेल की प्रतिष्ठा पर ध्यान नहीं दिया. 

वाघेला ने अहमद पटेल की हार का दावा करते हुए कहा, "मैं तो 21 जुलाई से ही कांग्रेस से बाहर हूं. अहमद भाई को 40 वोट भी नहीं मिलेंगे. जो 44 विधायक कांग्रेस के साथ हैं, उनमें से भी कई उन्हें अपना वोट नहीं देंगे."

कांग्रेस विधायक और वाघेला के पुत्र महेंद्र सिंह वाघेला ने कहा, "मैंने अपना वोट डाल दिया है. लोकतंत्र में मतदान गुप्त होता है." हालांकि माना जा रहा है कि महेंद्र ने भी अपना वोट भाजपा के पक्ष में डाला है.

कांग्रेस विधायक राघवजी पटेल ने कहा, "मैंने बलवंत सिंह राजपूत को वोट दिया है. मैं राजनीति में रहना चाहता हूं, लेकिन कांग्रेस के साथ नहीं. गुजरात में केवल दो पार्टी हैं- कांग्रेस और भाजपा. अगर मैं कांग्रेस में नहीं हूं तो आपको पता होगा कि मैं कहां रहूंगा."

 

कांग्रेस विधायक धर्मेंद्र जडेजा ने कहा, "कांग्रेस पिछले एक साल से हमारी बात नहीं सुन रही थी. मैंने बलवंत सिंह राजपूत को वोट दिया है."

गुजरात के सीएम विजय रुपानी ने कहा, "हमारे विधायकों ने व्हिप के मुताबिक वोट दिया है. मैं अपने सभी उम्मीदवारों की जीत के प्रति आश्वस्त हूं. यह साफ है कि एनसीपी के दोनों विधायकों ने भाजपा को वोट दिया है."

एनसीपी नेता माजिद मेमन ने कहा, "अहमद पटेल की वजह से चीजें उम्मीद से आगे निकल गई हैं. वह मुश्किल हालात मेें हैं. उनके आधे विधायक आखिर में भाजपा के पक्ष में वोट डाल सकते हैं."

 

गुजरात में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के पांचवीं बार राज्यसभा सदस्य चुने जाने को लेकर उठापटक सोमवार को आखिरी दौर में पहुंच गया. मंगलवार को होने वाले राज्यसभा चुनाव से एक दिन पहले सोमवार को भाजपा के तोड़फोड़ से बचाने के लिए गुजरात से बेंगलुरू भेजे गए कांग्रेस के 44 विधायक गुजरात लौट आए.

इन विधायकों को आणंद के पास स्थित निजानंद रेसॉर्ट में रखा गया. जहां से वे सुबह दस बजे के बाद मतदान में हिस्सा लेने सीधे गांधीनगर पहुंचे. 182 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 57 विधायक थे, जिनमें से छह ने 26 जुलाई को पार्टी से इस्तीफा दे दिया और उनमें से तीन 28 जुलाई को भाजपा में शामिल हो गए.

वहीं सोमवार को अहमद पटेल ने भरोसा जताया है कि वह मंगलवार के राज्यसभा चुनाव में जीत हासिल करेंगे. उन्होंने गुजरात में सत्ताधारी भाजपा पर उनके खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया. पटेल को पांचवीं बार राज्यसभा सदस्य चुने जाने के लिए 45 प्राथमिक मतों की जरूरत है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव पटेल ने आणंद के पास स्थित एक निजी रेसॉर्ट में संवाददाताओं से कहा, "भाजपा की कोशिशों के बावजूद मेरी जीत को लेकर मुझे पूरा भरोसा है और संख्या सभी को चौंका देगी."

गुजरात से शेष दो राज्यसभा सीटों पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी की जीत पक्की मानी जा रही है. भाजपा ने तीसरी सीट के लिए कांग्रेस छोड़कर आए बलवंत सिंह राजपूत को खड़ा करते हुए अहमद पटेल की राह मुश्किल कर दी है.

साभार: आईएएनएस

First published: 8 August 2017, 11:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी