Home » राजनीति » Ram Nath Kovind sworn in as the 14th President of India.
 

अब रायसीना के 'नाथ' हुए 'राम', 14वें राष्ट्रपति की ली शपथ

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 July 2017, 17:04 IST

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में मंगलवार को रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति पद की शपथ ली. भारत के चीफ जस्टिस जगदीश सिंह खेहर ने उन्हें संसद भवन के सेंट्रल हॉल में राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई. शपथ के बाद निवर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पारंपरिक रूप से कुर्सी का आदान-प्रदान करते हुए कोविंद को जिम्मेदारी सौंपी.  

संसद भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह और पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल समेत तमाम सांसदों और नेताओं की मौजूदगी में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया गया.

रामनाथ कोविंद केंद्र में सत्ता संभाल रही एनडीए की तरफ से उम्मीदवार थे. 20 जुलाई को आए नतीजों में रामनाथ कोविंद ने यूपीए की उम्मीदवार मीरा कुमार को बड़े अंतर से हराया था.

रामनाथ कोविंद को कुल वोट 10,98903 में से 702044 मिले, जबकि मीरा कुमार को 367314 वोट मिले. राष्ट्रपति बनने के लिए कोविंद को 5,52,243 वोट चाहिए थे.

शपथ लेने के बाद अपने संबोधन में रामनाथ कोविंद ने कहा, "मैं छोटे से गांव से आया, लंबी यात्रा रही. देश के संविधान में भाईचारे की भावना निहित है. मैं देश वासियों की अपेक्षाओं पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा. मैं राजेंद्र प्रसाद, सर्वपल्ली राधाकृष्णन, एपीजे और प्रणब मुखर्जी के पद चिन्हों पर चलने का प्रयास करुंगा. आंबेडकर ने हम सभी में गणतंत्रात्मक मूल्यों का समावेश किया."

प्रेसीडेंट रामनाथ कोविंद ने 21 वीं सदी में भारत को दुनिया का नेतृत्व करने के लिए कहा. उन्होंने कहा, "सदियों से भारत में वसुधैव कुटुम्बकम का पालन किया गया है. अब विश्व में शांति के लिए भारत नेतृत्व करे. भारत की ओर दुनिया देख रही है."

उन्होंने अपने संबोधन में कहा, "आज वैश्विक युग में हमारी जिम्मेदारियां भी वैश्विक हो गईं हैं. हमने राष्ट्र के तौर पर बहुत कुछ हासिल किया. लेकिन आगे और तेजी से हासिल करना होगा. हमारी कोशिश आखिरी आदमी तक अपना काम पहुंचाने की होगी. तेजी से कम खर्च में न्याय दिलाने वाली व्यवस्था होनी चाहिए. हमें ऐसा समाज बनाना होगा जैसा गांधी जी और दीनदयाल ने सोचा था."

देश के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पदभार ग्रहण करने के बाद अपनी पहली यात्रा जम्मू-कश्मीर के लद्दाख इलाके में कर सकते हैं. रामनाथ कोविंद देश के 14वें राष्ट्रपति हैं. शपथ लेने के साथ ही वे देश की तीनों सेनाओं के सुप्रीम कमांडर भी बन गए हैं. 13वें राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 25 जुलाई 2012 से 24 जुलाई 2017 तक रहा.

First published: 25 July 2017, 13:14 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी