Home » राजनीति » RLSP chief Upendra Kushwaha shoots down talk of joining grand alliance, says will back narendra modi in 2019
 

तेजस्वी यादव ने उपेंद्र कुशवाहा को दिया लालच, उपेंद्र बोले- मोदी का साथ दूंगा

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 June 2018, 16:06 IST
(file photo)

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के नेता और केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने आरजेडी नेता तेजस्वी यादव के महागठबंधन में शामिल होने के न्योते को ठुकरा दिया है. उपेंद्र कुशवाहा ने साफ करते हुए कहा कि वो एनडीए और बीजेपी के साथ रहेंगे. आरजेडी के जनाधार खोने की वजह से तेजस्वी ऐसे बयान दे रहे हैं.

बता दें कि बिहार में पिछले कुछ दिनों से साल 2019 को लेकर सियासत गरमायी हुआ है. विपक्षी पार्टियां बीजेपी और मोदी के खिलाफ महागठबंधन को मजबूत करने की कोशिश करने में लगी हुई हैं. वहीं ऐसी खबरें थी कि बीजेपी की सहयोगी पार्टियों में फूट है. नीतीश को तवज्जो मिलने से RLSP खफा है. इसी का फायदा उठाने के लिए आरजेडी नेता और लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने राजनीतिक दांव खेल दिया. 

 तेजस्वी ने रविवार को उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दे दिया. तेजस्वी ने कहा था कि बीजेपी उपेंद्र कुशवाहा का सम्मान नहीं कर रही है. तेजस्वी ने लिखा, 'उपेंद्र कुशवाहा को 4 सालों से एनडीए में उपेक्षित किया जा रहा है. हम उन्हें महागठबंधन में शामिल होने का न्योता देते हैं.  तेजस्वी के इस ट्वीट के बाद बिहार की राजनीति का पारा चढ़ गया. राजनीतिक गलियारों में उनके ट्वीट को लेकर चर्चा शुरू हो गई.

न्योते वाले ट्वीट के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने भी तेजस्वी को जवाब देने में देरी नहीं की. उपेंद्र कुशवाहाके जवाब ने बिहार की रजनीति के बढ़ते पारे को गिरा दिया.

उपेंद्र कुशवाहा ने तेजस्वी के महागठबंधन के न्योते को ठुकराते हुए कहा कि 'आरजेडी ने अपना जनाधार खो दिया है. जनाधार तलाशने के लिए तेजस्वी ऐसे बयान दे रहे हैं लेकिन मेरे लिए इनका कोई मतलब नहीं. देशहित में नरेंद्र मोदी का पीएम बने रहना जरूरी है. अगले पीएम वही होंगे.

उपेंद्र कुशवाहा के इस बयान ने साफ कर दिया कि बिहार में एनडीए में कोई फूट नहीं है. हालांकि पिछले दिनों में कुछ ऐसे घटनाक्रम देखने को मिले, जिससे बिहार में एनडीए की एकता को लेकर चर्चा शुरू हो गई थी. हाल ही में बीजेपी ने पटना में महाभोज के बहाने सभी घटक दलों के साथ एक बैठक की थी. खबरें थी कि इस बैठक में 2019 को लेकर सीटों पर चर्चा की जाएगी. इस बैठक में उपेंद्र कुशवाहा ने शामिल होने से मना कर दिया था. इसके बाद बिहार की राजनीति में ऐसी चर्चा शुरू हो गई थी.

उपेंद्र कुशवाहा के इस बयान ने साफ कर दिया कि बिहार में एनडीए में कोई फूट नहीं है. हालांकि पिछले दिनों में कुछ ऐसे घटनाक्रम देखने को मिले, जिससे बिहार में एनडीए की एकता को लेकर चर्चा शुरू हो गई थी. हाल ही में बीजेपी ने पटना में महाभोज के बहाने सभी घटक दलों के साथ एक बैठक की थी. खबरें थी कि इस बैठक में 2019 को लेकर सीटों पर चर्चा की जाएगी. इस बैठक में उपेंद्र कुशवाहा ने शामिल होने से मना कर दिया था. इसके बाद बिहार की राजनीति में ऐसी चर्चा शुरू हो गई थी.

First published: 11 June 2018, 16:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी