Home » राजनीति » Senior RSS Leader Manmohan Vaidya clarifies on his reservation remark
 

RSS के प्रचारक मनमोहन वैद्य बोले आरक्षण से अलगाववाद को बढ़ावा, मुश्किल में बीजेपी

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2017, 12:06 IST

उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य के आरक्षण पर बयान ने बीजेपी को मुश्किल में डाल दिया है. 

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के दौरान वैद्य ने कहा कि अगर आरक्षण व्यवस्था जारी रही तो इससे अलगाववाद को बढ़ावा मिलेगा. वैद्य ने आरक्षण व्यवस्था की समीक्षा करने की वकालत की. 

वैद्य ने कहा, "बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने कहा था, "आरक्षण को एक समय के बाद खत्म कर देना चाहिए. किसी भी राष्ट्र में हमेशा के लिए ऐसे आरक्षण की व्यवस्था अच्छी नहीं हो सकती. यह अलगाववाद को बढ़ाने वाली बात होगी." 

वैद्य ने कहा, "हमेशा आरक्षण की जगह पर ऐसी व्यवस्था लाने की जरूरत है जिसमें सबको समान अवसर और शिक्षा मिले. आरक्षण की व्यवस्था देश में अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए अलग से आई है. जिनका पूर्व में शोषण हुआ है. उनको साथ लाने के लिए संविधान में आरंभ से आरक्षण का प्रावधान किया गया है."

विवाद के बाद सफाई

आरएसएस नेता का यह बयान आते ही विपक्ष ने उनको निशाने पर ले लिया. राष्ट्रीय जनता दल के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने कहा, "आरक्षण संविधान प्रदत्त अधिकार है. संघ जैसे जातिवादी संगठन की खैरात नहीं. इसे छीनने की बात करने वालों को औकात में लाना कमजोर वर्गों को आता है." 

विवाद बढ़ने के बाद मनमोहन वैद्य ने सफाई देते हुए कहा, "मैंने कहा था कि जब तक समाज में भेदभाव है तब तक आरक्षण रहेगा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आरक्षण के पक्ष में है."

First published: 21 January 2017, 12:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी