Home » राजनीति » Sharad Pawar: Indira not implement note ban, but why Atal ji not implementing
 

शरद पवार ने पीएम मोदी से पूछा, इंदिरा नहीं तो अटल ने क्यों नहीं लागू की नोटबंदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 December 2016, 15:34 IST
(एजेंसी)

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार ने नोटबंदी में पीएम मोदी द्वारा पूर्व पीएम इंदिरा गांधी को घसीटे जाने को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है.

शरद पवार ने शनिवार को पीएम मोदी से सवाल किया कि इंदिरा गांधी के बाद भाजपा के ही अटल बिहारी वाजपेयी समेत देश में अन्य प्रधानमंत्री हुए, लेकिन किसी ने भी नोटबंदी का फैसला नहीं लागू किया.

पूर्व मंत्री पवार ने कहा कि इस मामले में इंदिरा जी का नाम लेकर पीएम मोदी खुद को उनसे बड़ा नेता बताने की कोशिश कर रहे हैं.

शरद पवार ने कहा, "मोदी के मुताबिक इंदिरा जी ने नोटबंदी को नहीं लागू किया, जिसका समर्थन उनके वित्त मंत्री वाई बी चव्हाण ने किया था. ऐसे में तो उनके बाद अटल बिहारी वाजपेयी भी प्रधानमंत्रियों और उनके शासनकाल में वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा और तत्कालीन उपप्रधानमंत्री आडवाणी ने भी ऐसा कोई फैसला नहीं किया. तो मोदी जी को उनका भी नाम लेना चाहिए वो केवल इंदिरा गांधी का नाम लेकर खुद को बड़ा बताने की कोशिश कर रहे हैं."

पवार ने कहा, "यह कहना कतई सही नहीं है कि पिछले 70 सालों में देश में कुछ हुआ ही नहीं. 70 सालों में केवल कांग्रेस ही हमेशा सत्ता में नहीं रही. मोदी खुद ही 13 सालों तक एक राज्य के मुख्यमंत्री थे. पंडित जवाहरलाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गांधी, वाजपेयी, मोरारजी देसाई और चरण सिंह समेत सभी नेताओं ने देश के विकास में योगदान दिया. तब भला कोई कैसे कह सकता है कि 70 सालों में कुछ हुआ ही नहीं. क्या मोदी जी को लगता है कि देश का विकास महज दो सालों में हुआ है."

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के फैसले का हमने भी स्वागत किया था, क्योंकि देश में फैले काले धन और भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए यह अच्छा कदम था.

फैसला लागू होने के बाद जैसी अफरातफरी मची है वो यह समझने के लिए काफी है कि नोटबंदी का त्रुटिपूर्ण क्रियान्वयन किया गया.

नोटबंदी से केवल आम आदमी को परेशानी हो रही है और वह पैसे के लिए दर-दर भटक रहा है. यह बहुत दुखद है और इस सारी परेशानियों के लिए केवल और केवल केंद्र सरकार ही जिम्मेदार है.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इस बात का दावा किया था कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1971 में तत्कालीन वित्त मंत्री वाई बी चव्हाण के नोटबंदी के सुझाव को खारिज कर दिया था.

पीएम मोदी ने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने चुनावों में हार के डर से नोटबंदी लागू नहीं किया था जबकि निरंजन नाथ वांचू कमेटी ने इस समय इसकी सिफारिश की थी.

First published: 18 December 2016, 15:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी