Home » राजनीति » shiv sena attacks on bjp and modi shah to week alliance of nda after tdp chief and andhra pradesh cm chandrababun naidu statement
 

शिवसेना का भाजपा पर निशाना, सहयोगी दलों को कमजोर करने से मिलता है आनंद

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 January 2018, 12:24 IST

शिवसेना के भाजपा से अलग होकर 2019 के आम चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद भी दोनों दलों में कटुता बढ़ जा रही है. शिवसेना ने भाजपा पर एक बार फिर से हमला बोला है. ये हमला तेलगूदेशम पार्टी के मुखिया चंद्राबाबू नायडू के ताजा बयान को लेकर बोला है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने भी हाल ही में भाजपा से अलग होने के संकेत दिये हैं. नायडू ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा था कि भाजपा गठबंधन धर्म का पालन नहीं करती है. उनके इस बयान का शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में जिक्र करते हुए भाजपा की आलोचना की है.

शिवसेना ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधते हुए लिखा, " भाजपा अपने सहयोगी दलों के साथ गठबंधन धर्म का पालन नहीं करती है. भाजपा को अपने मित्र दलों को कमजोर करने में आनंद मिलता है. भाजपा की यही कार्यप्रणाली है कि राज्य में क्षेत्रीय दलों से गठबंधन कर सत्ता पर काबिज होना और इसके बाद धीरे-धीरे सहयोगी दलों को कमजोर करते हुए अपने हाथ-पैर फैलाना."

शिवसेना ने सामना के जरिए निशाना साधते हुए कहा, महाराष्ट्र में भाजपा की इस तरीके को हमने नहीं चलने दिया और उनक कामों का पर्दाफाश करते हुए राज्य में स्वाभिमान का भगवा झंडा लहराए रखा."

 

शिवसेना ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर साल 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर को अलग कर दिया जाय तो देखते हैं कि अगले चुनाव में भाजपा के कितने सासंद जीतकर आते हैं. बिल्डरों और ठेकेदारों के पैसो से जो राजनीति भाजपा कर रही है वह अब टिकने वाली नहीं है.

शिवसेना ने भाजपा पर बड़ा निशाना साधते हुए कहा कि अब भाजपा को आने वाले समय में सहयोगी दल नहीं मिलेंगे. भाजपा को अब दुसरे ग्रह से मित्र खोजने होंगे. एनडीए एक अच्छे विचारों से बंधी हुई गठरी थी लेकिन अब भाजपा ने 380 और 400 सासंदो का टार्गेट बनाया है. 

 ये भी पढ़ें- बजट 2018: राष्ट्रपति के अभिभाषण में दिखी न्यू इंडिया की झलक, भारत माता के नारों से गूंजा सेंट्रल हॉल

First published: 29 January 2018, 12:24 IST
 
अगली कहानी