Home » राजनीति » Shivsena: those people are having black money, they are not in queue with 500-1000 INR note
 

नोटबंदी पर बिफरी शिवसेना- 'सवा सौ करोड़ जनता पर आर्थिक अराजकता का बम फेंका'

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:38 IST
(एजेंसी)

केंद्र और महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिवसेना ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' में कहा है कि पीएम मोदी ने इस देश की जनता के साथ बड़ा विश्वासघात किया है.

सामना के संपादकीय में लिखा गया है कि केवल चंद उद्योगपतियों से काला धन वसूलने के नाम पर मोदी सरकार ने देश की सवा सौ करोड़ जनता को सड़कों पर ला दिया है.

'सामना' के जरिए शिवसेना ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500-1000 के नोटों के अचानक बंदी से भारत की सवा सौ करोड़ की जनता पर आर्थिक अराजकता का बम डाल दिया है, वहीं इसके साथ ही 30 दिसंबर के बाद वे इसी तरह के एक और जोरदार धमाका करने की बात कर रहे हैं.

हम सरकार से पूछते हैं कि इस फैसले से काला पैसा कैसे बाहर आएगा? क्या जिनके पास कालाधन है, वे इन कतारों मे 500-1000 के नोटों के साथ नहीं खड़े हैं?

काले कारोबारियों का पैसा तो विदेशी बैकों मे सुरक्षित है और मोदी के फैसले से पहले ही इन पैसों को विदेश भेज दिया गया हो, तो क्या उन लोगों पर क्या कार्रवाई होगी.

'सामना' में कहा गया है कि प्रधानमंत्री पाकिस्तान पर परमाणु बम डालकर दाऊद सहित आतंकवाद का कारखाना खत्म कर साख में बदलने का विचार कर रहे हैं. वैसे भी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पहले ही कह दिया है कि पाकिस्तान पर हम परमाणु बम डालेंगे. हो सकता है यह धमाका 30 दिसंबर के बाद होगा.

इसका मतलब अखंड भारत का सपना साकार होने मे अब सिर्फ एक महीना बचा है या फिर हो सकता है 30 दिसंबर की मध्यरात्रि को अयोध्या मे राम मंदिर निर्माण की घोषणा का धमाका हो.

First published: 14 November 2016, 1:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी