Home » राजनीति » Smriti Irani attacks on Rahul Gandhi’s on his US address,A failed dynast spoke about his failed political journey.
 

स्मृति ईरानी: राहुल ने कांग्रेस को घमंडी बताकर सोनिया गांधी पर उठाए हैं सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 September 2017, 13:58 IST

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अमेरिका की बर्कले यूनिवर्सिटी में भाषण दिया. अपने भाषण में राहुल गांधी ने पीएम बनने की अटकलों से लेकर कश्मीर तक के मुद्दे पर बात की. उन्होंने नोटबंदी समेत कई मोर्चों पर मोदी सरकार को निशाने पर लिया.

राहुल गांधी के अमेरिकी यूनिवर्सिटी में दिए गे भाषण के बाद मंगलवार को स्मृति ईरानी ने भाजपा की तरफ से मोर्चा संभाला. स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को उनके भाषण के लिए निशाने पर लिया. हाल ही में सूचना प्रसारण मंत्री बनी स्मृति इरानी ने कहा कि पीएम मोदी पर तंज कसना राहुल गांधी के लिए नई बात नहीं है और ये उनकी रणनीतिक असफलता है.

स्मृति ईरानी ने कहा बर्कले यूनिवर्सिटी में दिए भाषण में अहंकार की बात स्वीकार करके राहुल गांधी ने गलती कबूली है. ये कांग्रेस के लिए बड़ी चिंता का विषय है, अहंकार की बात स्वीकार करके राहुल नें अपनी मां सोनिया गांधी पर ही सवाल उठाए हैं. 

 

दरअसल राहुल गांधी ने मंगलवार को अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में युवा छात्रों के साथ संवाद के दौरान माना कि, 2012 में उनकी पार्टी को अहंकार हो गया था. उन्होंने कहा कि किसी भी दल को सत्ता में आने पर अहंकार नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि अंहकार के कारण उनकी पार्टी ने जनता से संवाद कम कर दिया था, जिसके बाद लोगों ने पार्टी से दूरी बनानी शुरू कर दी.

स्मृति ईरानी ने वंशवाद को लेकर की गई राहुल की गई टिप्पणी पर भी चुटकी ली. उन्होंने कहा कि 'एक असफल वंश ने आज अपनी असफल राजनैतिक यात्रा के बारे में अमेरिका में बताया. उन्होंने राहुल को एक असफल वंशवादी बताया.

स्मृति ने कहा कि, शायद राहुल भूल गये कि हिन्दुस्तान में कई ऐसे नागरिक हैं जो कई क्षेत्रों में योगदान देते हैं लेकिन उनकी कोई राजनीतिक विरासत नहीं है. पीएम मोदी भी गरीब परिवार से आते हैं, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी दलित परिवार से आते हैं. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी किसान परिवार से आते हैं और संघर्ष के बाद यहां तक पहुंचे. इन तीन सर्वोच्च पदों पर इन व्यक्तियों का होना बताता है कि लोकतंत्र में परिवारवाद नहीं बल्कि मैरिट की जगह होती है.

राहुल ने वंशवाद पर बोलते हुए कहा पर कहा था कि, हमारा देश परिवारवाद से ही चलता है. उन्होंने कहा, 'परिवारवाद पर हमारी पार्टी पर निशाना न साधें, हमारा देश इसी तरह काम करता है. अखिलेश यादव, एमके स्टालिन, अभिषेक बच्चन कई तरह के उदाहरण हैं. इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता हूं. मुकेश अंबानी के बाद अब इंफोसिस में भी ये चीज़ दिख रही है.'

First published: 12 September 2017, 13:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी