Home » राजनीति » Smriti Irani no more special invitee to NITI Aayog, she is dropped
 

मोदी सरकार में स्मृति ईरानी को एक और बड़ा झटका, अब छीनी गई ये बड़ी जिम्मेदारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 June 2018, 13:29 IST

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को अब एक और बड़ा झटका लगा है. ईरानी को अब नीति आयोग में विशेष आमंत्रित सदस्य पद  से भी हटा दिया गया है. पहले उन्हें मानव संसाधन और विकास मंत्री के साथ ही नीति आयोग में भी सदस्य बनाया गया था. नीति आयोग में विशेष आमंत्रित सदस्य पद की जिम्मेदारी स्मृति ईरानी की जगह अब प्रकाश जावड़ेकर को सौंपी गई है. वहीं राव इंद्रजीत सिंह को नीति आयोग का पूर्व सदस्य नियुक्त किया गया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार स्मृति ईरानी को हटाने का फैसला गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग से पहले किया गया है. पीएम मोदी 17 जून को गवर्निंग काउंसिल की मीटिंग करने वाले हैं.

बता दें कि स्मृति ईरानी को पिछले चार साल में यह तीसरा झटका लगा है. सरकार में उनका कद घटता जा रहा है. मोदी सरकार बनने के बाद स्मृति को मानव संसाधन विकास मंत्रालय जैसी बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी. लेकिन बाद उनसे ये मंत्रालय छींन लिया गया. इसके बाद उनको सूचना प्रसारण मंत्रालय से भी हटा दिया गया.   बीते 15 मई को ही स्मृति ईरानी से  सूचना प्रसारण मंत्रालय वापस लिया गया है. अब स्मृति ईरानी के पास केवल कपड़ा मंत्रालय बचा है.

इसके साथ ही स्मृति ईरानी विपक्षी पार्टियों के निशाने पर भी रही हैं. हाल ही में गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा ने उन पर सांसद निधि का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया था. चावड़ा ने ट्वीट कर कहा था कि स्मृति ईरानी ने आणंद जिले के माघरोल गांव को मॉडल बनाने के लिए गोद लिया था और उन्होंने इसे भ्रष्टाचार और सत्ता के दुरुपयोग का बेहतरीन मॉडल बनाने का काम किया है.'

इसके साथ ही उन्होंने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा था कि 'स्मृति ईरानी और उनके स्टाफ ने शारदा मजूर कामदार सहकारी मंडली को ठेका देने के लिए अधिकारी को मजबूर किया.'

First published: 10 June 2018, 13:29 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी