Home » राजनीति » BJP MP Subramanian Swamy demands President must intervene in Tamil Nadu Crisis
 

सुब्रमण्यम स्वामी: शशिकला का शपथग्रहण जल्द हो, देरी संविधान के ख़िलाफ़

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2017, 10:52 IST
(फाइल फोटो)

तमिलनाडु में सियासी संकट गहरा गया है. मंगलवार को कार्यवाहक सीएम ओ पन्नीरसेल्वम के बयान के बाद राज्य की राजनीति में नया मोड़ आता दिख रहा है. 

इस बीच बीजेपी नेता और राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि शशिकला को जल्द ही राज्य की सत्ता सौंपी जानी चाहिए. स्वामी ने कहा, "शशिकला नटराजन को मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए. इसमें देरी होना संविधान के खिलाफ होगा. राष्ट्रपति को इस मामले में दखल देनी चाहिए."   

पन्नीरसेल्वम की बग़ावत

गौरतलब है कि पन्नीरसेल्वम ने मंगलवार को जयललिता की समाधि पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद कहा कि अम्मा की आत्मा ने उनसे सच बताने को कहा है. पन्नीरसेल्वम ने इस दौरान यह भी कहा कि शशिकला समर्थक विधायकों के दबाव में उनसे इस्तीफ़ा लिया गया है और अगर समर्थक चाहेंगे तो वह इस्तीफ़ा वापस ले सकते हैं. 

तमिलनाडु में सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहा है. पन्नीरसेल्वम का बयान सामने आने के बाद ही चेन्नई के पोएस गार्डन में शशिकला ने आपात बैठक बुलाई. इसके बाद पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में शशिकला ने पन्नीरसेल्वम को पार्टी से निष्कासित कर दिया है. 

पार्टी और कोषाध्यक्ष पद से हटाया

इससे पहले उन्हें एआईएडीएमके कोषाध्यक्ष पद से हटाया दिया गया. उनकी जगह पर डिंडीगुल श्रीनिवासन को नया कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. वहीं एआईएडीएमके से निष्कासित सांसद शशिकला पुष्पा ने पन्नीरसेल्वम का समर्थन किया है. समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा, "इस कदम का स्वागत करती हूं. बहुत खुश हूं. सच कभी बेकार नहीं जाता." 

ओ पन्नीरसेल्वम, जयललिता की गैर मौजूदगी में तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री बन चुके हैं. 2001 में पन्नीसेल्वम 21 सितंबर से मार्च 2002 तक पहली बार 161 दिनों के लिए सीएम बने. दूसरी बार वे 29 सितंबर, 2014 से 22 मई 2015 तक 235 दिनों के लिए मुख्यमंत्री बने. जयललिता के निधन के बाद 6 दिसंबर, 2016 को पन्नीसेल्वम ने तीसरी बार सीएम की कुर्सी संभाली.

First published: 8 February 2017, 10:52 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी