Home » राजनीति » Supreme Court's harsh comment on EC appointments If there is no law we intervene
 

सुप्रीम कोर्ट: EC में नियुक्ति के लिए क़ानून नहीं होने पर हम देंगे दखल

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 July 2017, 13:19 IST

नए मुख्य निर्वाचन आयुक्त के नाम पर मंजूरी के ठीक बाद सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग में नियुक्तियों पर कड़ी टिप्पणी की है. सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को सुनवाई के दौरान कहा कि चुनाव आयोग में नियुक्ति के लिए अगर कोई कानून नहीं है तो अदालत इसमें दखल देगी.

हालांकि अदालत ने अपनी टिप्पणी में ये माना कि अब तक सभी नियुक्तियां निष्पक्ष और सही तरीके से की गई हैं. सर्वोच्च अदालत ने कहा, "हमें लगता है कि इसके लिए कोई तय प्रक्रिया नहीं है."

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी EC में नियुक्ति को लेकर दाखिल एक याचिका पर आई है, जिसमें चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति के लिए नेता विपक्ष और मुख्य न्यायाधीश की सदस्यता वाले एक संवैधानिक पैनल को बनाए जाने की मांग की गई है.

कोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार को नसीहत देते हुए अटॉर्नी जनरल से पूछा कि क्या गुप्त मतपत्र के जरिए नियुक्ति हो सकती है. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में अटॉर्नी जनरल से सरकार का रुख साफ़ करने के निर्देश दिए हैं.

चुनाव आयोग में नियुक्तियों को लेकर विवाद होते रहे हैं. 2009 के लोकसभा चुनाव से पहले नवीन चावला की बतौर मख्य निर्वाचन आयुक्त के पद पर नियुक्ति को लेकर भाजपा ने सवाल उठाए थे. नियमों के मुताबिक वरिष्ठता के आधार पर मुख्य निर्वाचन आयुक्त और निर्वाचन आयुक्तों की नियुक्ति की जाती है.

हाल ही में अचल कुमार ज्योति को देश का नया मुख्य चुनाव आयुक्त बनाया गया है. वो नसीम जैदी की जगह ले रहे हैं, जिनके कार्यकाल का आज आख़िरी दिन है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ज्योति की नियुक्ति पर मुहर लगा दी है. 6 जुलाई ज्योति CEC का पदभार संभालने जा रहे हैं.

First published: 5 July 2017, 13:19 IST
 
अगली कहानी