Home » राजनीति » Fodder Scam Case: Lalu Yadav Have To Face Trial For Criminal Conspiracy
 

सुप्रीम कोर्ट ने चारा घोटाले में लालू की बढ़ाई मुश्किलें, हर केस का अलग से होगा ट्रायल

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 May 2017, 13:36 IST
Lalu Yadav

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को बहुचर्चित चारा घोटाले के मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि चारा घोटाले के हर केस का अलग से ट्रायल चलेगा और 9 महीने के भीतर उस पर सुनवाई पूरी की जानी चाहिए. इस फैसले से राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव को झटका लगा है.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सीबीआई की याचिका स्वीकार कर ली है. इस तरह सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट का फैसला पलट दिया है. अब लालू पर आपराधिक साजिश का केस चलेगा. 1996 में सामने आए इस मामले में लालू यादव के अलावा कुल 47 आरोपी थे, लेकिन लंबे समय से चल रही अदालती कार्यवाही के दौरान 15 आरोपियों की मौत हो गई.

कोर्ट ने इस मामले में 20 अप्रैल को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. साथ ही मामले में संबंधित सभी पक्षों से एक हफ्ते के भीतर अपने सुझाव देने को कहा था. इसके साथ ही कोर्ट ने राजद प्रमुख की ओर से दाखिल याचिका पर भी सुनवाई की थी. 

900 करोड़ का चारा घोटाला

तत्कालीन बिहार और अब झारखंड के चाईबासा पशुपालन विभाग के 900 करोड़ से ज्यादा के चारा घोटाले में मिली जेल की सजा को लालू यादव ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. 1990 के दौरान हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे. लालू यादव फिलहाल इस मामले में जमानत पर चल रहे हैं.

चारा घोटाले में लालू पर आरोप तय होने के बाद राहुल गांधी ने दागी जनप्रतिनिधियों को लेकर केन्द्र सरकार के अध्यादेश को फाड़ते हुए लालू के खिलाफ तल्ख तेवर अपनाए थे. हालांकि 2015 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जदयू और राजद के साथ महागठबंधन करते हुए नीतीश कुमार के चेहरे पर चुनाव लड़ा था, जिसमें महागठबंधन की बड़ी जीत हुई थी.

First published: 8 May 2017, 11:42 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी