Home » राजनीति » Today the need for a leader who can express his views in front of the PM without worry: Murali Manohar Joshi
 

आज ऐसे नेता की जरूरत जो बिना चिंता के पीएम के सामने अपने विचार रख सके : मुरली मनोहर जोशी

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 September 2019, 11:03 IST

बीजेपी के दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी ने मंगलवार को कहा कि भारत को एक ऐसे नेतृत्व की आवश्यकता है जो सिद्धांतों के आधार पर प्रधानमंत्री के साथ बहस कर सके और बिना किसी चिंता के विचार व्यक्त कर सके. जोशी ने यह टिप्पणी कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जयपाल रेड्डी पर एक मेमोरियल मीटिंग के कही. रेड्डी की 28 जुलाई को हैदराबाद में मृत्यु हो गई थी.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार 1990 के दशक की शुरुआत में रेड्डी के साथ अपने जुड़ाव को याद करते हुए जोशी ने कहा "इस मुद्दे पर वह हर स्तर पर अपने दृष्टिकोण को व्यक्त करते थे, चाहे वह कोई भी हो, मंच के सदस्य, जनता पार्टी के सदस्य या कांग्रेस पार्टी के सदस्य ... उन्होंने कभी इन मुद्दों पर कभी समझौता नहीं किया."

 

जोशी ने कहा "मैं ऐसा समझता हूं कि आजकल ऐसे नेतृत्व बहुत आवश्यकता है जो सिद्धांतों के साथ, बेबाकी के साथ और बिना कुछ इस बात की चिंता किये हुए प्रधानमंत्री नाराज होंगे या खुश होंगे, अपनी बात साफ-साफ कहते हैं, उनसे बहस करते हैं''. जोशी ने कहा कि रेड्डी इंद्रकुमार गुजराल सरकार में मंत्री बनने के बाद भी वह फोरम के विचारों को प्रधानमंत्री तक पहुंचाने के लिए सहमत हुए और जब उनकी राय मांगी गई तो उन्होंने बिना किसी झिझक के स्पष्ट शब्दों में कहा कि वह इससे सहमत हैं.

जोशी 1991 और 1993 के बीच भाजपा अध्यक्ष थे, पार्टी ने कन्याकुमारी से कश्मीर तक की एक एकता यात्रा निकाली. उस समय, नरेंद्र मोदी यात्रा के समन्वयक थे. मंगलवार की स्मारक बैठक में उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित कई पार्टियों के नेताओं ने भाग लिया.

पीएम मोदी का दो दिवसीय रूस दौरा, ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम की बैठक में होंगे शामिल

First published: 4 September 2019, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी