Home » राजनीति » TripleTalaq- AIMPLB said its affidavit in sc,it will issue an advisory requesting persons who perform ‘Nikah’ to follow certain steps.
 

AIMPLB का SC में हलफ़नामा, दूल्हों को तीन तलाक़ न देने की नसीहत

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 May 2017, 11:12 IST

तीन तलाक़ के मुद्दे पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सलन लॉ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में नया हलफ़नामा दायर किया है. इस हलफनामे में मुस्लिम पर्सलन लॉ बोर्ड ने कहा है कि वो काज़ियों को मशविरा जारी करेगा कि वे दूल्हों से कहें कि वो तलाक लेते समय तीन तलाक़ का रास्ता न अपनाएं.

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए 13 पन्ने के हलफ़नामे में बोर्ड ने बताया कि तीन तलाक़ की प्रथा को रोकने की कोशिश की जाएगी. सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफ़नामे में बोर्ड ने कहा है कि वह अपनी वेबसाइट, विभिन्न प्रकाशनों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के ज़रिए लोगों को एडवाइज़री जारी करेगा, जिसमें निकाह कराने वालों को तीन तालक़ से संबंधित सुझाव दिए जाएंगे.

प्रधान न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के इस हलफनामे पर विचार करेगी. हलफ़नामे में कहा गया है कि निकाह के वक़्त काज़ी दूल्हे को सुझाव देगा कि किसी तरह के मतभेद की सूरत में एक बार में तीन तलाक़ देने से बचा जाए, क्योंकि शरीयत में इस प्रथा को पसंद नहीं किया जाता है. 

तीन तलाक पर गर्मियों की छुट्टी के बाद फैसला

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने 6 दिन तक लगातार तीन तलाक के मुद्दे पर सुनवाई की. सुप्रीम कोर्ट ने सब पक्षों की दलील सुनने के बाद तीन तलाक पर फैसला सुरक्षित रख लिया. कोर्ट की पांच सदस्यों की संवैधानिक पीठ गर्मियों की छुट्टियों के बाद इस पर फैसला सुना सकती है.

First published: 23 May 2017, 11:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी