Home » राजनीति » Shiv Sena on Lal Krishna Advani's statement on pandemonium in Parliament
 

उद्धव ठाकरे: मोदी सरकार को आडवाणी जी की सलाह गंभीरता से लेनी चाहिए

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 December 2016, 14:41 IST
(एएनआई)

वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के बयान पर राय जाहिर करते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को नसीहत दी है. दरअसल संसद में जारी हंगामे पर बुधवार को आडवाणी ने नाराजगी जताई थी.

शिवसेना प्रमुख ने कहा, "आडवाणी जी बुजुर्ग नेता हैं. उनकी राय गंभीरता से लेनी चाहिए." नोटबंदी के मुद्दे पर उद्धव ठाकरे ने कहा, "शिवसेना जनता के साथ रहेगी. हम जो भी सवाल उठाते हैं वो जनता के मन के होते हैं."

आडवाणी ने क्या कहा था?

नोटबंदी के मुद्दे पर संसद के शीतकालीन सत्र में तीन हफ्ते से हंगामा चल रहा है. इससे नाराज़ लालकृष्ण आडवाणी को कथित रूप से यह कहते सुना गया कि न तो स्पीकर और न ही संसदीय कार्यमंत्री सदन को चला पा रहे हैं.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने संसद में जारी गतिरोध पर कथित तौर पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि हंगामा करने वाले सांसदों का वेतन काट लेना चाहिए. साथ ही ऐसे सांसदों को बाहर निकाल देना चाहिए.

विपक्ष के हंगामे के दौरान सत्ता पक्ष की सीटों के सामने आ जाने पर आडवाणी को संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार से कुछ कहते सुना गया.

'स्पीकर-संसदीय कार्यमंत्री सदन चलाने में नाकाम'

आडवाणी को कथित तौर पर यह कहते सुना गया, "मैं स्पीकर से कहने जा रहा हूं कि वह सदन नहीं चला रही हैं. मैं सार्वजनिक तौर पर यह कहने जा रहा हूं. दोनों इसके पक्ष हैं."

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार को उन्हें शांत करने की कोशिश करते भी देखा गया. दरअसल अनंत कुमार मीडिया गैलरी की ओर इशारा कर रहे थे और संभवत: यह बताने का प्रयास कर रहे थे कि उनकी टिप्पणी को रिपोर्ट किया जा सकता है.

सदन स्थगित होने के बाद 89 वर्षीय बीजेपी नेता ने लोकसभा के एक अधिकारी से पूछा कि सदन की बैठक कितने बजे तक के लिए स्थगित की गई है. जब अधिकारी ने बताया कि दो बजे तक के लिए स्थगित की गई है. तब उन्होंने कहा, "अनिश्चितकाल के लिए क्यों नहीं?" 

आडवाणी ने स्पीकर को दी सफाई

इस बीच लालकृष्ण आडवाणी ने गुरुवार सुबह लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से मुलाकात की. बीजेपी नेता ने मुलाकात के दौरान कहा कि बुधवार को संसद की कार्यवाही में गतिरोध को खत्म नहीं करने को लेकर उनके द्वारा जताई गई नाराजगी स्पीकर या संसदीय कार्यमंत्री के खिलाफ नहीं थी. ऐसी मीडिया रिपोर्ट गलत हैं.

साथ ही वरिष्ठ बीजेपी नेता ने लोकसभा स्पीकर को बताया कि वह उन सांसदों के खिलाफ कार्रवाई चाहते थे, जो सदन की कार्यवाही को बाधित कर रहे हैं. लालकृष्ण आडवाणी ने बुधवार रात को केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार को भी फोन करके यही बात कही थी.

इस बीच संसद के शीतकालीन सत्र में नोटबंदी के मुद्दे पर हंगामा जारी है. लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही एक बार फिर दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई. वहीं नोटबंदी के 30 दिन पूरे होने पर विपक्ष ने संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के पास धरना दिया.

First published: 8 December 2016, 14:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी