Home » राजनीति » Udhav thakre: What we found from Note ban?
 

उद्धव ठाकरे: नोटबंदी से मिला क्या?

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 December 2016, 11:55 IST
(फाइल फोटो)

केंद्र और महाराष्ट्र की सरकार में प्रमुख सहयोगी शिवसेना ने नोटबंदी के मसले पर एक बार फिर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है.

नोटबंदी के विरोध में शिवसेना ममता बनर्जी की अगुवाई में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के पास भी जाकर अपना विरोध दर्ज करा चुकी है.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार की नोटबंदी का मुख्य उद्देश्य ही ‘पूरा नहीं हुआ’ क्योंकि इसके कारण केवल आम लोग बैंकों की कतारों में खड़े होकर अपनी जान दे रहे हैं और आतंकियों का हमला अब भी हम पर जारी है.

उन्होंने मुबंई में आयोजित एक समारोह में कहा, "जवानों ने दुश्मन की गोलियों का सामना किया और इस देश की सेवा की, लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद उन्हें अपनी मेहनत का पैसा नहीं मिल पा रहा है. यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब वे खुद की गोलियों से मर रहे हैं."

उद्धव ठाकरे ने कहा, "नोटबंदी की घोषणा करते हुए उन्होंने (पीएम मोदी) कहा था कि इससे आतंकवादी हमले खत्म हो जाएंगे, उनकी कमर टूट जाएगी, लेकिन हुआ क्या? हमारे जवान तो पहले की तरह ही आतंकियों के हमले में शहीद हो रहे हैं."

इस फैसले से केवल और केवल आम आदमी परेशान है, क्योंकि उसके पास पैसा नहीं है. रोज की जरूरतों के लिए पैसा नहीं है. आम आदमी इस फैसले से हताश है और यह सही नहीं है.

First published: 18 December 2016, 11:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी