Home » राजनीति » Union Environment Minister Anil Madhav Dave passes away on today
 

5 साल पहले ही पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे ने बता दी थी अंतिम इच्छा

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 May 2017, 14:34 IST
फेसबुक

मोदी सरकार में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का गुरुवार को देहांत हो गया. उन्होंने 5 साल पहले ही अपनी अंतिम इच्छा को लेकर पत्र लिखा था. अनिल माधव ने यह इच्छा 23 जुलाई 2012 को ही लिख दी थी. उनकी इच्छा थी कि उनके मरने के बाद उनके नाम पर कोई प्रतियोगिता, पुरस्कार या प्रतिमा न बनाई जाए.

केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे का दिल्ली में 61 साल की उम्र में निधन हो गया. वह काफी समय से बीमार चल रहे थे. दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में उनका सांस की तकलीफ का इलाज चल रहा था. बताया जा रहा है कि दवे फेफड़े के कैंसर से पीड़ित थे.  उन्होंने देहांत से कई साल पहले अपनी कुछ इच्छाएं बताई थीं.

1- मेरा अंतिम संस्कार बाद्राभान में नदी महोत्सव वाले स्थान पर किया जाए.

2- मरने के बाद मेरी स्मृति में कोई भी स्मारक, प्रतियोगिता, पुरस्कार, प्रतिमा न बनाई जाए.

3- मेरी अंतिम क्रिया के रूप में केवल वैदिक कर्म ही हो, किसी भी प्रकार का दिखावा, आडंबर न हो.

4- मेरे देहांत के बाद जो लोग मेरी स्मृति में कुछ करना चाहते हैं, वे कृपया वृक्षों को बोएं और उन्हें संरक्षित कर बड़ा करने का कार्य करें, तो मुझे खुशी होगी. ऐसा करते हुए भी मेरे नाम का इस्तेमाल न करें. 

शुक्रवार को अंतिम विदाई

अनिल माधव दवे मध्य प्रदेश भाजपा का बड़ा चेहरा थे. उनका पार्थिव शरीर 11 सफदरजंग रोड पर श्रद्धांजलि देने के लिए रखा गया है. भोपाल दफ्तर में शाम को उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी. देर शाम अनिल माधव दवे के पार्थिव शरीर को इंदौर में उनके भाई अभय दवे के घर ले जाया जायेगा. शुक्रवार सुबह 9 बजे इंदौर में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर दवे के निधन पर गहरा शोक जताया है. प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, "मैं कल शाम को अनिल दवे जी के साथ था, उनके साथ नीतिगत मुद्दों पर चर्चा कर रहा था. उनका निधन मेरा निजी नुकसान है. उन्हें लोग जुझारू लोक सेवक के तौर पर याद रखेंगे." 

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ की पृषठभूमि के अनिल दवे ने नर्मदा नदी बचाओ अभियान में काफी काम किया. वे सेना के विमान से नर्मदा का चक्कर लगा चुके थे और 1,312 किलोमीटर लंबी इस नदी में राफ्टिंग भी कर चुके थे. वह राज्यसभा में साल 2009 से मध्य प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. यह उनका दूसरा राज्यसभा कार्यकाल था. 

First published: 18 May 2017, 14:34 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी