Home » राजनीति » Union Minister Ram Vilas Paswan talk about Modi Govt and Lok Sabha Election 2019
 

बोले पासवान- हम किसी के बंधुआ मजदूर नहीं, सम्मान को ठेस पहुंची तो निकल लेंगे

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2018, 9:06 IST

मोदी सरकार में केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि हम लोग बाबासाहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर के अनुयायी हैं. बाबासाहेब ने कहा है कि सब लोग सम्मान के साथ रहो. जब सम्मान पर ठेस पहुंचती है, तो हम किसी के बंधुआ मजदूर नहीं हैं.

दरअसल, राम विलास पासवान एक निजी टीवी चैनल 'आज तक' पर मोदी सरकार में दलितों पर हो रही पॉलिटिक्स और साल 2019 चुनाव को लेकर बात कर रहे थे. उन्होंने कहा कि देश का दलित गुस्से में है और उनका गुस्सा स्वाभाविक है. उन्होंने कहा कि हमारी जनरेशन और चिराग पासवान की जनरेशन दोनों में बुनियादी फर्क है.

 

राम विलास पासवान ने कहा कि हमारी जनरेशन के लोग थे, जिन्होंने जुल्म को सह लिया और गाली को सुन लिया. लेकिन जो नई जनरेशन के लोग हैं, वो इज्जत और सम्मान की जिंदगी जीना चाहते हैं. वो टूट सकते हैं, लेकिन झुकने को तैयार नहीं हैं. आजादी के बाद से जैसे-जैसे वक्त गुजर रहा है, बाबा साहब अंबेडकर के विचार मुखर होकर सामने आ रहे हैं.

हालांकि इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार की भी तारीफ की. पासवान ने दावा किया कि साल 2019 में भी नरेंद मोदी ही प्रधानमंत्री बनेंगे. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से अब तक देश में जितने भी काम हुए, उन सबकी तुलना की जाए तो प्रधानमंत्री के तौर पर मोदी का काम सब पर भारी रहेगा.

जब उनसे पूछा गया कि क्या आपकी पार्टी साल 2019 में एनडीए का हिस्सा रहेगी? तो उन्होंने कहा कि बिल्कुल एनडीए का हिस्सा रहेंगे. जब उनसे पूछा गया कि अंबेडकर की मूर्ति लगाना, योजनाओं का नाम रखना, ये सारी चीज़ें क्या सांकेतिक राजनीति नहीं हैं क्या?

पढ़ें- कर्नाटक चुनाव: मोदी का विपक्ष पर वार बोले, नतीजों के बाद कांग्रेस बन जाएगी PPP

इस पर पासवान ने कहा, “योजनाओं में जैसे जनधन योजना है, उसमें किसका खाता नहीं था. 100 प्रतिशत अनुसूचित जाति (SC) के लोगों का खाता नहीं था. आज उनका खाता खुल गया. मुद्रा योजना है, सवा लाख बैंकों को कहा गया कि आप प्रत्येक बैंक में से एक दलित महिला, एक दलित पुरुष को बिजनेसमैन बनाओ, फिक्की के मुकाबले में डिक्की आ गया है, जितने काम हुए हैं वो सारा का सारा गरीबों के हक में है.”

First published: 6 May 2018, 9:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी